/>

Breaking

Tuesday, November 30, 2021

साध संगत ने मानवता भलाई के 135 कार्यो का दोहराया संकल्प, जरूरतमंद लोगों को गर्म वस्त्र किए वितरित

बेपरवाह शाह मस्ताना महाराज के अवतार दिवस पर पुरानी आईटीआई मैदान में नामचर्चा का आयोजन

साध संगत ने मानवता भलाई के 135 कार्यो का दोहराया संकल्प, जरूरतमंद लोगों को गर्म वस्त्र किए वितरित
रोहतक ÷ डेरा सच्वचा सौदा सिरसा के संस्थापक बेपरवाह शाह मस्ताना महाराज के अवतार दिवस पर रोहतक जोन द्वारा पुरानी आईटीआई मैदान में नामचर्चा का आयोजन किया गया। साध संगत ने मानवता भलाई के 135 कार्यो का संकल्प लिया और जरूरतमंद लोगों को गर्म वस्त्र भी वितरित किए गए। इस अवसर पर भंडारे का भी आयोजन किया गया। रोहतक जिला ब्लॉक कमेटी के जिम्मेवारों ने बताया कि प्रतिवर्ष बेपरवाह शाह मस्ताना महाराज का बड़ी धूमधाम से साध संगत द्वारा अवतार दिवस मनाया जाता है। उन्होंने बताया कि साध संगत ने डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरू संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इंसान की पावन शिक्षा पर चलने का संकल्प लिया। इस अवसर पर पूर्व सहकारिता मंत्री मनीष ग्रोवर सहित शहर के अनेक गणमान्य लोग भी नामचर्चा में शामिल हुए। दरअसल डेरा सच्चा सौदा हमेशा ही मानवता की भलाई के लिए प्रयारत है, चाहे रक्तदान, अंगदान, नशे के दुष्प्रभाव, पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूकता करना शामिल है। कोविड़19 को ध्यान में रखते हुए संगत ने नामचर्चा में मास्क, सेनेटाइजिंग और सोशल डिस्टेंस का खास तौर पर ध्यान रखा। साध संगत ने पूज्य गुरू जी द्वारा रचित ग्रंथो में से कविराजो द्वारा लगाए भजनों और पूज्य गुरू जी के अनमोल वचनों को ध्यान मग्न होकर सुना। नामचर्चा में साध संगत ने सतगुरू को हाजऱि नाजिर मानते हुए हाथ खड़े करके आश्वाशन दिया कि सतगुरू के प्रति हमेशा अटूट प्रेम और विश्वास जी नहीं बल्कि दृढ़ विश्वास रखेंगे। इस नामचर्चा दरबार से संदीप अन्नू इन्सां, राजेंद्र इन्सां चीका, विजय इन्सां जींद, गुरदीप इन्सां, रमेश वर्मा इन्सां, फौजी धर्मवीर इन्सां, ओमपाल इन्सां, बहन निर्मल इन्सां, संतोष इन्सां, आशा इन्सां, शशि इन्सां प्रमुख रूप से मौजूद रहे। 

4 comments:

  1. काबिले तारीफ

    ReplyDelete
  2. गुरु जी द्वारा मानवता भलाई के लिए चलाए गए 135 कार्य अब भी अनवरत जारी है

    ReplyDelete
  3. धन्य धन्य कहने के काबिल हैं ऐसे गुरु जी
    जिन्होंने करोड़ों लोगों को नशे रूपी बुराई से बचाकर राम नाम के मार्ग से जोड़ दिया है

    ReplyDelete
  4. ये हम सभी का अंध विश्वास नहीं बल्कि दृढ़ विश्वास है कि हमारे गुरु जी बिलकुल पाक साफ है

    ReplyDelete