/>

Breaking

Sunday, August 30, 2020

हरियाणा में दो दर्जन से ज्यादा फार्महाउस ढहाए, नेताओं और उच्चाधिकारियों ने कर रखा था कब्जा

हरियाणा में दो दर्जन से ज्यादा फार्महाउस ढहाए, नेताओं और उच्चाधिकारियों ने कर रखा था कब्जा

फरीदाबाद : ( विनीता सोनी )देर आए दुरुस्त आए' ये कहावत अरावली वन क्षेत्र की स्थिति पर सटीक बैठती है। एनसीआर की जीवनदायिनी कहे जाने वाली अरावली में लगातार खुले आम अवैध फॉर्महाउस का निर्माण होता चला आ रहा था। और वन विभाग कुंभकरण की नींद सोया हुआ था। हैरानी की बात ये है कि अरावली पहाड़ी क्षेत्र में बने अधिकतर फॉर्म हाउस देश के बड़े नेताओं से लेकर सेवानिवृत्त उच्च अधिकारियों के हैं। तो शिकायत करता भी कौन और किसके खिलाफ।
खैर किसी ने शिकायत की थोड़ा हंगामा हुआ तो वनविभाग ने नोटिस भेजकर अपना काम कर दिया। हाल ये हुआ ही सैकड़ों फॉर्महाउस के नीचे अरावली वन गायब होते चले गए। और वन विभाग की तरफ से कोई कड़ी कार्रवाई नहीं की गई।

लेकिन अब ये मामला जा पहुंचा है नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के पास। एनजीटी की इस मामले में आदेश आते ही अवैध निर्माण करने वालों में हड़कंप मच गया है। क्योंकि एनजीटी ने आदेश जारी किया है कि अरावली वन क्षेत्र में बने सभी फॉर्महाउस को अगले छह महीनों के अंदर तोड़ दिया जाए। आदेश जारी होते ही डीटीपी और नगर निगम ने मिलकर अवैध रूप से बने इन फॉर्महाउस पर पीला पंजा चलाना शुरू कर दिया।

नगर निगम के एडिशनल कमिश्नर हरिओम अत्री ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि ये फार्म हाउस आलीशान बने हुए है और यहां पर लगातार पार्टियां भी होती रहती है। ऐसे में इन सभी फार्म हाउस मालिकों ने ये बिना सीएलयू के बना दिए। जब इन रईसदारों का नगर निगम ने नोटिस भेजा तो फार्म हाउस मालिक गेट खोलने की भी जरूरत नहीं समझी। नगर निगम के अधिकारी फार्म हाउस के बाहर नोटिस चस्पा कर उनको सूचित करते रहे लेकिन कुत्ते की दुम की तरह इनकी दुम भी टेड़ी की टेड़ी रही जिसके बाद सभी फार्म हाउसों को तोड़ा जा रहा है।

साथ ही कमिश्नर अत्री ने बताया कि ये सभी फॉर्महाउस बिना वन विभाग और एनजीटी के आदेश के बने हुए हैं। जो अवैध की लिस्ट में शामिल हैं। गुरुवार को दो दर्जन फार्म हाउस को तोड़ा गया है. और बाकी सभी अवैध रूप से बने सभी फार्म हाउस रडार पर हैं। यहीं नहीं अरावली के अलावा अन्य कहीं भी अगर अवैध कॉलोनी बनी हुई है, तो वे सभी कालोनियां भी रडार पर हैं। जल्द ही सभी कालोनियों को ध्वस्त किया जाएगा

No comments:

Post a Comment