/>

Breaking

Saturday, October 24, 2020

बरोदा उपचुनाव:बरोदा में हुड्‌डा-चाैटाला की इमोशनल राजनीति, विपक्ष ने एमएसपी पर घेरा तो भाजपा ने नौकरियों से रिझाया

बरोदा उपचुनाव:बरोदा में हुड्‌डा-चाैटाला की इमोशनल राजनीति, विपक्ष ने एमएसपी पर घेरा तो भाजपा ने नौकरियों से रिझाया

गोहाना : बरोदा में वोटरों को रिझाने के लिए सत्ता पक्ष और विपक्ष को कोई कसर नहीं छोड़ रहे। शुक्रवार को हलके में अपने-अपने प्रत्याशियों के पक्ष में प्रचार करने पहुंचे दो पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा और ओपी चौटाला ने इमोशनल कार्ड खेला तो रोहतक से भाजपा सांसद डॉ. अरविंद शर्मा ने योग्यता के आधार पर मिली सरकारी नौकरियों की बात रखी।
हुड्‌डा ने भावुक होते हुए उपचुनाव की हार-जीत को जनता की हार-जीत बताया। उन्होंने कहा कि इस चुनाव से मेरी नहीं, बल्कि जनता की प्रतिष्ठा जुड़ी हुई है। बता दें कि सीएम मनोहर लाल ने बरोदा सीट से हुड्डा की प्रतिष्ठा जुड़ी होना कहा था। इसका जवाब देते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि उनकी प्रतिष्ठा जनता के साथ जुड़ी है। अब जनता ही भाजपा को इसका जवाब देगी।
वहीं, पूर्व सीएम एवं इनेलो सप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला की जुबां पर लंबे समय से सत्ता से दूर होने का दर्द सामने आया। चौटाला ने कहा कि इनेलो सत्ता से बाहर रहकर 15 वर्ष का बनवास काट चुकी है। इस उपचुनाव में इनेलो जीतती है तो प्रदेश में मध्यावति चुनाव होंगे, जिससे इनेलो सत्ता में वापसी करेगी। उन्होंने कहा कि इन 15 सालों में जनता का जो नुकसान हुआ है, इनेलो सत्ता में आने पर भरपाई करेगी। वहीं, भाजपा सांसद डॉ. अरविंद शर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भाजपा सरकार ने 6 सालों में बिना पर्ची व खर्ची के 85 हजार युवाओं को नौकरियां दी है। इनमें से बरोदा हलके के योग्य युवाओं ने 700 से ज्यादा नौकरियां प्राप्त की हैं। सरकार कहती है कि योग्य युवाओं ने सरकारी नौकरियां ली।

*भाजपा आजादी से पहले की व्यवस्था बना रही, तब एमएसपी नहीं था: हुड्‌डा*

हुड्‌डा ने कृषि के तीन बिलों पर कहा कि नए अध्यादेश लाकर भाजपा आजादी से पहले की व्यवस्था कर रही है। तब फसलों का एमएसपी नहीं मिलता था। अब सरकार ने नए कानून लागू करके दो मंडी बना रही है। एक मंडी में सरकार फसल एमएसपी मिलने की बात कह रही है। दूसरी मंडी बाहर होगी, जहां पर बड़ी कंपनियां मनमाफिक रेट पर फसल खरीदेंगी। दोनों ही मंडियों में किसानों को कम रेट में फसल बेचने को मजबूत होना पड़ेगा।
*खिड़की से समस्याओं का समाधान करना ढकोसला था, खिड़की बंद पड़ी : चौटाला*
इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने सीएम विंडो को लेकर कहा कि लोगों की समस्या का समाधान करने के लिए जो खिड़की खोली थी, वह बंद पड़ी हुई है। यह केवल ढकोसला था और लोगों को गुमराह करने के लिए किया था। आज गांवों में पेयजल समस्या है। सड़कों की मरम्मत नहीं हो रही। किसानों की फसल एमएसपी पर खरीदी जा रही है। बस में सवार चौटाला ने शामड़ी, मुंडलाना, सिरसाढ़ का दौरा किया।

*उपचुनाव न होता तो विपक्षी नेता करते कृषि कानूनों का समर्थन: अरविंद*

भाजपा सांसद डॉ.अरविंद शर्मा ने कांग्रेस के पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा पर बरोदा हलका के साथ भेदभाव और विश्वासघात करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि हुड्‌डा बरोदा हलके को अपना घर बताता है, लेकिन जब विकास करने की बात आई तो रोहतक ही याद रहा। सांसद डॉ. शर्मा ने कृषि कानूनों का विरोध किसान नहीं, बल्कि विपक्षी पार्टियों के कार्यकर्ता कर रहे हैं। यदि उपचुनाव नहीं होता तो सभी विपक्षी पार्टियों के नेता कानूनों का समर्थन करते। पीएम नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानून किसानों की आय बढ़ाने के लागू किए हैं, लेकिन विपक्ष इस पर भी राजनीति कर रहा है। सांसद ने कहा कि भाजपा बरोदा हलके का विकास करा रही है तो विपक्ष इसे चुनावी स्टंट बता रहा है। जब विपक्षी पार्टियां सत्ता में थी, तब हलके का विकास नहीं कराया, अब भाजपा करा रही है तो उसे भी नहीं कराने दे रही। कांग्रेस और इनेलो नेता इन्हें चुनावी घोषणाएं बता रहे हैं।

No comments:

Post a Comment