/>

Breaking

Sunday, May 2, 2021

भीड़ में टूटी सोशल डिस्टेंसिंग, सरकारी की बजाय निजी बसें ज्यादा चलीं, दिल्ली-चंडीगढ़ भी भेजी बसें

भीड़ में टूटी सोशल डिस्टेंसिंग, सरकारी की बजाय निजी बसें ज्यादा चलीं, दिल्ली-चंडीगढ़ भी भेजी बसें

 हिसार : काेराेना काल में सरकार जहां राेजाना बचाव के उपायाें काे लेकर संदेश जारी करती है लेकिन आमजन को शायद इसकी परवाह नहीं है। खासकर बस अड्डा, रेलवे स्टेशन, मंडियाें और अस्पतालाें में बढ़ते कोरोना के समय ऐसी लापरवाही खतरनाक है। शनिवार काे स्थानीय बस स्टैंड पर लाॅकडाउन के बावजूद बसाें का आवागमन जारी रहा, लेकिन कुल बसाें में से 50 प्रतिशत बसें ही राेड पर नजर आईं।

कुछ रूटाें पर बसाें में सवारियाें की क्षमता कम रही ताे कुछ रूटाें पर भर भर कर सवारियां बसाें में देखने काे मिली। चालकों और परिचालकाें समेत अड्डे पर ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियाें काे बेपरवाह देखा गया। आज सुबह सिरसा रूट पर राेडवेज की बसें चलीं।
दिल्ली की ओर से जाने वाले बसें भी काफी थीं। राेडवेज और निजी सेवा की बसें दिल्ली रूट पर ताे थीं, लेकिन बहादुरगढ़ तक ही गईं। वहीं ताेशाम, हांसी, भिवानी, राजगढ़ और चंडीगढ़ रूट पर नरवाना तक निजी बसाें काे संख्या ज्यादा दिखाई दीं।

सैनिटाइजर की नहीं व्यवस्था: बस अड्डा परिसर में यात्रियाें और कर्मचारियाें के लिए सैनिटाइजर्स की काेई व्यवस्था नहीं है। राेडवेज यूनियनाें से जुड़े कर्मचारी नेताओं ने कहा कि सरकार काे इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए कि बसाें का संचालन करने वाले चालक व परिचालकाें के लिए सैनिटाइजर्स और माॅस्क अवश्य वितरित करें।

बस अड्डे के अंदर व बाहर ड्यूटी कर रही पुलिस दिखी सुस्त

बस अड्डे के बाहर और अंदर ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मचारी सुस्त दिखे। बाहर वाले अंदर और अंदर तैनात पुलिस वाले बाहर वालाें पर जिम्मेदारी डालकर बच रहे थे। मुख्य गेट पर खड़े पुलिस अधिकारियाें से कहा कि यात्री अंदर साेशल डिस्टेंसिंग नहीं रख रहे हैं।

इस पर पुलिस वालाें ने कहा कि यह उनकी नहीं अपितु अंदर एक और पुलिस टीम तैनात है, ये जिम्मेदारी उनकी है। वहीं अंदर तैनात एक अधिकारी ने कहा कि इस काम के लिए अलग से पुलिस टीम है। इस तरह पुलिस वाले अपनी जिम्मेदारी से बचते नजर अाए।

पुलिस को मदद करनी चाहिए

राेडवेज प्रशासन काेराेना काल में सरकार के अआदेशाें काे पालन करवाने के लिए पूरा प्रयास कर रहा है। इसके बावजूद यात्री न ताे साेशल डिस्टेंसिंग मानते और न ही मास्क का प्रयाेग करते हैं। पुलिस प्रशासन काे इसमें मदद करनी हाेगी।'' - कुलदीप सिंह, डीआई, हरियाणा राेडवेज

No comments:

Post a Comment