/>

Breaking

Wednesday, June 23, 2021

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी, रोहतक पीजीआई में डॉक्टरों को दी जाएगी ट्रेनिंग

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी, रोहतक पीजीआई में डॉक्टरों को दी जाएगी ट्रेनिंग
रोहतक : पीजीआई में सभी जिलों के सिविल अस्पतालों को डॉक्टर्स की स्पेशल ट्रेनिंग शुरू हो चुकी है। मंगलवार और बुधवार को झज्जर, जींद व सोनीपत के 22 डॉक्टर्स को ट्रेनिंग दी जा रही है। सिविल अस्पतालों के शिशू रोग विशेषज्ञ और आईसीयू में काम करने वाले डॉक्टर्स को भी सिखाया जा रहा है। यह ट्रेनिंग डॉ. कुंदन मित्तल और डॉ. प्रशांत दे रहे हैं। डॉ. कुंदन मित्तल ने बताया कि हर सप्ताह मंगलवार व बुधवार को यह ट्रेनिंग कार्यक्रम रखा जाएगा, जिसमें 19 से 22 चिकित्सकों को ट्रेनिंग दी जाएगी। ट्रेनिंग करीब 7 सप्ताह तक चलेगी। मंगलवार को ट्रेनिंग के दौरान पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. ओपी कालरा ने कहा कि हमें अपने दिमाग से यह बात बिल्कुल निकाल देनी चाहिए कि कोरोना की तीसरी लहर यदि आती है तो उससे सिर्फ बच्चे प्रभावित होंगे और यह भी कि जिन्हें दूसरी लहर में कोरोना हो चुका है, उन्हें अब तीसरी लहर में कोरोना नहीं होगा। कोरोना कभी जवान या बच्चा नहीं देखता, हां अधिकतर युवाओं व बुजूर्गों को वैक्सिन लग चुकी है तो उन्हें कोरोना होने की संभावना कम हो जाती है। ऐसे में हमें शिशुओं के लिए विशेष रूप से तैयारी रखने की जरूरत है। इसी को ध्यान में रखकर पीजीआईएमएस में क्रमबद्व तरीके से पूरे प्रदेश के चिकित्सकों को आपातकाल में शिशुओं की देखभाल करने की विशेष ट्रेनिंग कृत्रिम अंगों पर प्रदान की जा रही है।

No comments:

Post a Comment