/>

Breaking

Saturday, June 26, 2021

कैथल में सांसद नायब सैनी और करनाल में शिक्षा मंत्री का विरोध, हिरासत में लिए किसान

कैथल में सांसद नायब सैनी और करनाल में शिक्षा मंत्री का विरोध, हिरासत में लिए किसान
कैथल : कैथल के आरकेएसडी कॉलेज में आपातकाल के विरोध में भाजपा द्वारा काला दिवस मनाने पहुंचे सांसद नायब सैनी ने का किसानों ने काले झंडे दिखाकर विरोध जताया। जैसे ही किसानों ने आरकेएसडी कालेज के सामने सांसद को घेरने का प्रयास किया तो पुलिस ने भाकियू जिलाध्यक्ष होशियार सिंह गिल सहित करीब 10 किसानों को हिरासत में ले लिया। जैसे ही किसानों को किसान नेताओं की गिरफ्तारी का पता चला तो किसानों में रोष फैल गया। जिले भर से सैकड़ों किसान एकत्रित होकर थाना शहर पुलिस में जा धमके तथा पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। किसानों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए पुलिस की सांसें उखड़ गई। बाद में किसानों ने शहर थाना के मुख्य गेट पर धरना शुरू कर दिया। किसानों का कहना था कि सरकार किसानों के धैर्य की परीक्षा न ले। किसानों की मांग थी कि जब तक डीएसपी माफी न मांगे वे धरना समाप्त नहीं करेंगे। किसानों ने फोन के माध्यम से प्रदेश भर के किसानों को गिरफ्तारी की सूचना दे दी तथा किसानों ने देखते ही देखते जिला व प्रदेश में जाम लगाने की चेतावनी दी। जाम की चेतावनी को लेकर जिला प्रशासन की सांसें उखड़ गई तथा किसानोें को जुटते देख हलचल मच गई। किसानों के विरोध को देखते हुए डा. संजय कुमार किसानों के बीच पहुंचे तथा किसानों की बात सुनी। किसानों ने बताया कि पुलिस प्रशासन ने किसान नेताओं के साथ ज्यादती की। डा. संजय ने बताया कि किसानों के अनुरोध पर हिरासत में लिए किसानों को रिहा कर दिया।
*करनाल में पहुंचे थे शिक्षा मंत्री* करनाल में कष्ट निवारण समिति की बैठक में पहुंचे शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुज्जर को किसानों के विरोध का सामना करना पड़ा। किसानों को जैसे ही पता चला कि मंत्री कष्ट निवारण समिति की बैठक में आ रहे हैं तो काफी संख्या में किसान वहां पहुंच गए और किसानों ने नारेबाजी शुरू कर दी। इसके बाद वहां पुलिस भी पहुंच गई हालांकि पुलिस ने पहले ही बैरिकेड लगाए हुए थे ताकि किसान बैठक के अंदर ना पहुंचे। बावजूद इसके किसानों ने मंत्री का जबरदस्त विरोध किया करनाल में शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर कष्ट निवारण समिति की बैठक में पंचायत भवन में पहुंचे लेकिन बाहर कुछ किसान आए और उन्हें हिरासत में ले लिया गया, जिसके बाद भारी संख्या में किसानों ने पहुंचकर अपने साथियों की रिहाई की मांग की औऱ सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान भारी संख्या में पुलिस बल और बेरिकेट्स भी लगाए हुए थे।

No comments:

Post a Comment