/>

Breaking

Tuesday, June 22, 2021

प्राइवेट स्कूल संघ की मांग, एक जुलाई से खोले जाएं स्कूल

प्राइवेट स्कूल संघ की मांग, एक जुलाई से खोले जाएं स्कूल
फतेहाबाद : जिला प्राइवेट स्कूल संघ के पूर्व प्रधान शैलेन भास्कर ने मुख्यमंत्री व शिक्षामंत्री को पत्र लिखकर बंद पड़े स्कूलों को एक जुलाई से खोलने की मांग की है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि विगत दो वर्षों में जिस तरह से बच्चों की पढ़ाई बाधित हुई है, उसकी भरपाई कर पाना एक बहुत ही मुश्किल कार्य होगा। उन्होंने कहा कि बेशक कोरोना महामारी से पूरे विश्व पर असर पड़ा है परन्तु बच्चों की शिक्षा दीक्षा व शिक्षण की पूरी प्रक्रिया का जो नुक्सान हो चुका है, उसका एकमात्र उपाय अब स्कूलों को जल्दी खोलकर ही हो सकता है। उन्होंने कहा कि आज लगभग सभी क्षेत्र खुल गए हैं और महामारी भी लगभग नियंत्रण की स्थिति में है। ऐसे में सभी अध्यापकों व स्कूल में कार्यरत सभी कर्मचारियों का स्कूल कैंपस में ही वैक्सीनेशन करके स्कूलों को खोला जा सकता है। उन्होंने कहा कि सरकार के स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी तीसरी लहर में बच्चों को प्रभावित होने की आशंका को नकार चुके हैं, ऐसे में इस दुष्प्रचार से बचना चाहिए कि बच्चे तीसरी लहर में प्रभावित होंगे। शैलेन भास्कर ने कहा कि स्कूलों में बच्चे पूरी तरह सुरक्षित होते हैं और इसके लिए सभी उपाय और प्रबंध किये जा सकते हैं। उन्होंने पत्र में कहा है कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि न तो प्रदेश सरकार व न ही केन्द्र सरकार ने स्कूल प्रबंधकों, स्कूल स्टाफ व स्कूली बच्चों के बारे में कभी कोई सहानुभूति दिखाई व न ही कोई राहत प्रदान की।
उन्हें इस प्रकार छोड़ दिया गया मानो वो समाज का हिस्सा ही न हों। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की है कि स्कूलों को भी अन्य क्षेत्रों की तरह राहत प्रदान की जाए व आर्थिक पैकेज दिया जाए ताकि उनके भी परिवारों का भरण-पोषण हो सके। जिस चुनौतीपूर्ण परिस्थिति में स्कूल प्रबंधकों, स्कूल फैकल्टी और बच्चों ने ऑनलाइन पढ़ाई इस पूरे दौर में की है, उसके लिए वो सब बधाई के पत्र हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि जिस तरह अब माहौल सामान्य होने लगा है उसको देखकर लगता है कि सरकार इस पर सहानुभूति से विचार करके स्कूलों को खोलने का निर्णय लेगी और बच्चे पुन: अपनी शिक्षा सुचारु रूप से स्कूलों में ग्रहण कर सकेंगे और इस शैक्षणिक सत्र में जुलाई से सब सामान्य हो जायेगा तो बचे हुए समय में बच्चों के अब तक के नुक्सान की भरपाई की जा सकेगी।

No comments:

Post a Comment