/>

Breaking

Friday, September 3, 2021

मधुबन में सिपाही की जगह पेपर देते हेड कॉन्स्टेबल पकड़ा

मधुबन में सिपाही की जगह पेपर देते हेड कॉन्स्टेबल पकड़ा:

विभागीय कोर्स के लिए हो रही थी परीक्षा;

 CCTV फुटेज से फंसे दोनों, अकादमी ने की निलंबित करने की सिफारिश
करनाल : हरियाणा पुलिस अकादमी मधुबन में सिपाही की जगह पर विभागीय कोर्स की परीक्षा देते हुए हेड कॉन्स्टेबल को पकड़ा है। पूरी जांच होने के बाद दोनों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। दोनों ने जांच के दौरान दिए गए बयानों में अपनी गलती को भी माना है। वहीं अकादमी ने दोनों को निलंबित किए जाने की सिफारिश भी कर दी है।
हरियाणा पुलिस अकादमी मधबन कंप्यूटर शाखा इंचार्ज महिला/सहायक उप निरीक्षक कुसुम लता की रिपोर्ट के अनुसार, 175 (134 GRP 41 HAP) उम्मीदवारों का 2019 के बी-1 टेस्ट का आयोजन 17 जुलाई को किया गया था। एचपीए ऑनलाइन कंप्यूटर लैब में 4 शिफ्ट में पेपर हुआ था। पहली शिफ्ट 10:00 AM से 11:30 AM तक, दूसरी शिफ्ट 1:00 PM से 2:30 PM तक, तीसरी शिफ्ट 4:00 PM से 5:30 PM तक और चौथी 7:00 PM से 8:30 PM तक थी।
परीक्षा में केवल 48 उम्मीदवार ही पास हुए थे। इसके बाद उपरोक्त सहायक उप निरीक्षक ने कहा कि जब वह रिकॉर्ड के लिए टेस्ट की डीवीडी तैयार कर रही थीं तो चतुर्थ शिफ्ट में उन्हें कुछ उम्मीदवारों की गतिविधियां संदिग्ध लगीं। कुछ को किसी और के स्थान पर टेस्ट देते हुए प्रतीत हुआ, जो संदिग्ध था।
*चौथी शिफ्ट के पेपर में दूसरे को बिठाया*
उपलब्ध साक्ष्यों, प्राप्त रिपोर्ट, गवाहों के बयान और स्वयं प्रतिभागी सिपाही बिट्टू बेल्ट नंबर 1 जीआरपी व मुख्य सिपाही योगेंदर सिंह आईआरबी के बयान से यह स्पष्ट होता है कि राजकीय रेलवे पुलिस के कर्मचारियों के लिए लोअर स्कूल कोर्स (B-1) 2019 की 17 जुलाई को आयोजित हुई। परीक्षा के दौरान हरियाणा पुलिस अकादमी, मधुबन की लैब संख्या-3 में शिफ्ट संख्या-4, जिसकी परीक्षा का समय सायं 7 से 8:30 बजे तक था, में जीआरपी के सिपाही बिट्टू ने परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया था। लेकिन उसने पीटीसी सुनारिया रोहतक में बतौर कैशियर तैनात अपने साथी कर्मचारी मुख्य सिपाही योगेंदर सिंह आईआरबी को अपने स्थान पर परीक्षा देने के लिए भेजा था।
*दोनों कर्मियों ने मानी गलती*
दोनों कर्मचारियों सिपाही बिटू जीआरपी व मुख्य सिपाही योगेंदर सिंह आईआरबी ने जांच के दौरान लिखकर दिए गए बयान में अपनी गलती को माना है और लिखा है कि भविष्य मे ऐसी गलती दोबारा नहीं होगी।
*समिति ने की जांच*
मामले की जांच के लिए गठित समिति के सदस्यों द्वारा की गई पड़ताल में संदर्भित सभी साक्ष्यों के आधार पर यह सिद्ध होता है कि सिपाही बिट्टू जीआरपी ने परीक्षा के लिए स्वयं रजिस्ट्रेशन करवाया था, लेकिन मुख्य सिपाही योगेंदर सिंह आईआरबी को अपने स्थान पर परीक्षा देने के लिए भेज दिया था, जो पुलिस विभाग में घोर अनुशासनहीनता का परिचायक है।
*विभाग को भेजी रिपोर्ट*
समिति के सदस्यों द्वारा इस संबंध मे इन दोनों कर्मचारियों के निलंबन, नियमित विभागीय जांच एवं कठोर अनुशासनात्मक कार्रवाई की संस्तुति की गई है, जिससे वे सहमत हैं। इसके अतिरिक्त भारतीय दंड संहिता की धारा 34, 120, 419 के तहत उपरोक्त दोनों पुलिस कर्मचारियो के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की भी सिफारिश की।
*शिकायत पर केस दर्ज*
मधुबन थाना पुलिस ने हरियाणा पुलिस अकादमी मधुबन के पंचम वाहिनी आदेशक राजेंद्र कुमार मीणा की शिकायत पर केस दर्ज किया है। मामले की जांच की जा रही है।

No comments:

Post a Comment