Breaking

Showing posts with label haryana news. Show all posts
Showing posts with label haryana news. Show all posts

Saturday, January 23, 2021

January 23, 2021

हरियाणा भाजपा मंत्रिमंडल में बदलाव की तैयारी, विधायकों और मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार

हरियाणा भाजपा मंत्रिमंडल में बदलाव की तैयारी, विधायकों और मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार

चंडीगढ़ : हरियाणा सरकार जल्द ही अपने मंत्रिमंडल में बदलाव कर सकती है। इसकी संभावना किसान आंदोलन के बाद या हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र के बाद की है। इसको लेकर भाजपा के प्रदेश प्रभारी विनोद तावड़े ने गुरुवार को पार्टी के सभी जिलाध्यक्षों के साथ चंडीगढ़ में मंथन किया। तीन दिनों तक चंडीगढ़ प्रवास के दौरान कुछ विधायकों व जिलाध्यक्षों ने तावड़े के समक्ष मंत्रिमंडल में बदलाव की पटकथा तैयार करने में भी सहयोग दिया है।
सूत्रों का कहना है कि किसान आंदोलन के समाप्त होने या फिर हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र के बाद मंत्रिमंडल में फेरबदल हो सकता है। कुछ मंत्रियों के विभाग भी बदले जा सकते हैं। सभी विधायकों और मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार किया गया है। भाजपा प्रभारी को विधायकों व जिलाध्यक्षों ने कुछ मंत्रियों के मंत्रालयों तो कुछ मंत्रियों को बदले जाने के सुझाव भी दिए हैं। विधायकों और मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड बनाया है। इसे पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष रखा जाएगा।

किसान आंदोलन से संबंधित कुछ सुझावों को कलमबद्ध किया गया है। सूत्रों का कहना है कि बजट सत्र के बाद मंत्रिमंडल में फेरबदल तय है। प्रभारी ने बुधवार देर रात सीएम के साथ उनके निवास पर डिनर किया। सूत्रों के अनुसार इस दौरान संगठन की मजबूती को लेकर गहन मंथन हुआ।
इसके साथ ही खबर है कि हरियाणा कांग्रेस भी जिला और प्रदेश कार्यकारिणी का गठन अगले दो माह में कर सकती है। इसके लिए प्रदेश प्रभारी विवेक बंसल मैदान में उतर चुके हैं। दरअसल प्रदेश में पिछले सात साल में कांग्रेस सिर्फ प्रदेशाध्यक्ष के भरोसे चल रही है। 2014 में अशोक तंवर के प्रदेशाध्यक्ष बनने के बाद खुलकर गुटों में बंटी कांग्रेस का संगठन खड़ा नहीं हो सका। प्रभारी कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोलकर जिला और प्रदेश कार्यकारिणी के गठन का काम पूरा करने में जुटे हैं।
तीन दिनों में जीटी बेल्ट के तीन जिले पानीपत, करनाल और कुरुक्षेत्र में कार्यकर्ताओं बातचीत के बाद प्रभारी ने अगले एक माह में सभी जिलों के कार्यकर्ताओं से वन-टू वन मिलने का लक्ष्य रखा है। खासकर किसान आंदोलन के बीच पंचायत चुनाव की शुरू हुई सुगबुगाहट के बाद कांग्रेस जिला परिषद के चुनाव सिंबल पर लड़ने का मन भी बना रही है। परंतु इसका फैसला कार्यकर्ताओं से फीडबैक पर निर्भर करेगा।
January 23, 2021

हरियाणा में गरीबों को मिलेंगे सस्ते घर, जानिये क्या है योजना ?

हरियाणा में गरीबों को मिलेंगे सस्ते घर, जानिये क्या है योजना ?

चंडीगढ़ : हरियाणा में अब गरीबों को सस्ते फ्लैट देने की योजना सरकार की तरफ से बनाई जा रही है। इसके लिए अब मुख्यमंत्री खुद जानकारी जुटा रहे हैं। राज्य के शहरी इलाकों में स्लम बस्तियों में रहने वालों को सस्ते फ्लैट्स देने के लिए योजना तैयार की जा रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वर्ष 2022 तक 'सब के लिए आवास' के विजऩ को आगे बढ़ाते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राज्य में शहरी क्षेत्र में स्लम बस्तियों में रहने वाले लोगों को सस्ते आवासीय फ्लैट प्रदान करने की एक व्यापक योजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं। शुरुआत में फरीदाबाद और गुरुग्राम में इस योजना को प्रारंभ करने का प्रस्ताव है।

मुख्यमंत्री आज यहां 'हाउसिंग फॉर ऑल' के संबंध में आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाद में इस योजना को राज्य के अन्य बड़े शहरों में भी शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य शहरी क्षेत्रों में स्लम क्षेत्र में रहने वाले लोगों को सस्ती आवास सुविधाएँ प्रदान करना है।
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि पुनर्वास योजना 'हाउसिंग फॉर ऑल' विभाग द्वारा तैयार की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत यह सुनिश्चित किया जाएगा कि फ्लैटों के निर्माण के लिए स्थल शहर के भीतर स्थित हो और झुग्गी-झोपड़ी वालों को उनकी सहमति से आवासीय फ्लैटों में स्थानांतरित किया जाए। उन्होंने कहा कि राज्य में बड़ी संख्या में झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोग हैं, जो निर्मित आवास इकाइयों में रहने के लिए तैयार हैं।

मनोहर लाल ने विभागों, जिनके पास जमीनें हैं, उनको इस योजना के लिए संभावित लाभार्थियों की संख्या और क्षेत्र का आंकलन करने के लिए सर्वे करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि योजना के तहत बनाए जाने वाले फ्लैटों को झुग्गीवासियों को सस्ती कीमतों पर दिया जाएगा, जिसका उनके द्वारा किश्तों में भुगतान किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बैंकों के माध्यम से भी ऋण की व्यवस्था कर सकती है ताकि लाभार्थियों द्वारा भुगतान को आसान बनाया जा सके।

बैठक में मुख्य सचिव श्री विजय वर्धन, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डी. एस. ढेसी, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल, आवास विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री टी.सी. गुप्ता, शहरी स्थानीय निकाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री एस.एन. रॉय, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री वी. उमाशंकर, विकास एवं पंचायत विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री सुधीर राजपाल, नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग के प्रधान सचिव श्री ए. के. सिंह, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव श्री अमित अग्रवाल, मुख्यमंत्री की उप-प्रधान सचिव श्रीमती आशिमा बराड़, हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं अवसंरचना विकास निगम के प्रबंध निदेशक श्री अनुराग अग्रवाल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
January 23, 2021

HSSC ग्राम सचिव पेपर लीक- स्कूल प्रिंसिपल व इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस बेचने वाला चढ़ा पुलिस के हत्थे

HSSC ग्राम सचिव पेपर लीक- स्कूल प्रिंसिपल व इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस बेचने वाला चढ़ा पुलिस के हत्थे

रोहतक : ग्राम सचिव परीक्षा का पेपर लीक कराने के मामले में एसआईटी ने समालखा के पैराडाइज स्कूल के प्रिंसिपल देशबंधु और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस उपलब्ध कराने वाले दीपक कुमार को गिरफ्तार किया है।

दोनों को गुरुवार को समालखा कोर्ट में पेश कर दीपक को 4 व प्रिंसिपल को दो दिन की रिमांड पर भेज दिया है। इससे पहले एसआईटी पैराडाइज के मालिक जगदीप, बेटा अनुज, पत्नी समेत 19 आरोपियों को गिरफ्तारी कर चुकी है।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि आरोपी देशबंधु डिकाडला गांव और दीपक नई दिल्ली का रहने वाला है। रिमांड के दौरान आरोपी देशबंधु से एसआईटी परीक्षा संबंधी रिकॉर्ड, मोबाइल और रुपए की बरामदगी करेगी। पुलिस को अभी इस मामले में और भी आरोपियों के शामिल होने का शक है।

करनाल के करण विहार से गिरफ्तार हुए रोहतक के पुष्पेंद्र ने ग्राम सचिव की परीक्षा पास करवाने के लिए पूरी तैयारी की थी। उसने दीपक से एक वॉकी-टॉकी सेट, दो स्पाई एयर पीस और 2 जैमर फ्री डिवाइस खरीदी थी। स्पाई एयर पीस परीक्षार्थियों को दिए जाने थे औैर वॉकी-टॉकी सॉल्वरों के पास थे। परीक्षार्थियों को प्रश्न पढ़ना था और बाहर बैठे सॉल्वरों को वॉकी-टॉकी से उत्तर बताना था।
January 23, 2021

जींद में निजी अस्पताल में किया जा रहा था अवैध गर्भपात, छापे में पकडे गए रंगे हाथ

जींद में निजी अस्पताल में किया जा रहा था अवैध गर्भपात, छापे में पकडे गए रंगे हाथ 

जींद: स्वास्थ्य विभाग की पीएनडीटी की टीम ने सुबह एक निजी अस्पताल पर छापा मारा। टीम को एक अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में कुछ खामी मिली। स्वास्थ्य विभाग अब इस रिपोर्ट को कमेटी के सामने रखेगा। इसके बाद आगामी कार्रवाई होगी। स्वास्थ्य विभाग को सूचनाएं मिल रही थी कि बस स्टैंड के पास स्कीम नंबर छह के एक निजी अस्पताल में गर्भपात किया जा रहा है। सूचना के आधार पर विभाग की टीम अस्पताल पहुंची और जांच शुरू की। टीम को यहां एक महिला की अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट मिली। 

इसमें भ्रूण को काफी कम समय का दिखा गया था जबकि असलियत में भ्रूण 12 सप्ताह से ज्यादा का था। जिस महिला की अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट थी, उस महिला को पहले से ही दो लड़कियां हैं। इस कारण टीम को गड़बड़ी की आशंका है। फिलहाल स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच कर रही है। इसके बाद जांच रिपोर्ट को पीएनडीटी की बैठक में रखा जाएगा। कमेटी जो निर्णय लेगी, उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी। 

जींद के सिविल सर्जन डॉ. मंजीत सिंह ने कहा कि एक निजी अस्पताल में गर्भपात की सूचना मिली थी। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौके पर जांच की। इसमें एक महिला के अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में कुछ गड़बड़ी मिली है। टीम जांच कर रही है। जांच रिपोर्ट को पीएनडीटी कमेटी के सामने रखा जाएगा।
January 23, 2021

11वें दौर की बैठक भी बेनतीजा, कानून रद्द नहीं हो सकते, प्रस्ताव मंजूर है तो बताओ

11वें दौर की बैठक भी बेनतीजा, कानून रद्द नहीं हो सकते, प्रस्ताव मंजूर है तो बताओ

नई दिल्ली : नए कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आज सरकार और आंदोलनरत किसानों के बीच 11वें दौर की बैठक हुई जो कि पहले की 10 बैठकों जैसी बेनतीजा रही । कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कानून रद्द नहीं किये जा सकते यह बात साफ है। हाँ ये जरूर है कि कानूनों के लागू होने पर एक निश्चित समय के लिए हम रोक लगा सकते हैं जैसा कि हमने पहले प्रस्ताव रखा है। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि जो प्रस्ताव दिया गया है वह किसानों के हित के लिए है । इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता। इससे बेहतर प्रस्ताव सरकार नहीं दे सकती। अगर आप (आंदोलनरत किसानों) का विचार बने तो एक बार इसपर सोच लीजिए। नरेंद्र तोमर ने किसानों से कहा कि अगर उनकी इस बारे में सलाह बन जाये तो यह बातचीत दोबारा फिर हो सकती है। बतादें कि बैठक की अगली तारीख तय नहीं की गई है। कृषि मंत्री ने आज की बातचीत के लिए किसानों का धन्यवाद किया है।
January 23, 2021

खुदाई के दौरान मिले अंग्रेजों के जमाने के चांदी के सिक्के -जिसके हाथ जितने लगे लेकर चलता बना

खुदाई के दौरान मिले अंग्रेजों के जमाने के चांदी के सिक्के-जिसके हाथ जितने लगे लेकर चलता बना-

कैथल, 22 जनवरी कैथल में शुक्रवार को पता चला है कि यहां एक पुरानी हवेली में खुदाई के दौरान दो बड़े मटके दबे मिले हैं, जिनमें चांदी के सिक्के भरे हुए थे। अनुमान है कि यहां लगभग 30 किलो चांदी मिली है। इनमें कुछ सिक्के 1918 के हैं तो काफी सारे इससे भी पुराने है। जैसे ही मिट्‌टी में पुरानी मुद्रा निकलना शुरू हुई, लोगों की भीड़ टूट पड़ी। जिसके जितना हाथ लगा, लेकर चलता बना। हालांकि, इस संबंध में पुलिस के पास कोई सूचना नहीं है। घटना कैथल जिले के गांव से सामने आई है। यहां नाथू राम सेठ की एक पुरानी हवेली है। इसे कुछ ही वक्त पहले पाल नाम के एक व्यक्ति ने खरीद लिया था। अब इस हवेली को गिराकर नए सिरे से मकान बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई थी। शुक्रवार को खुदाई के दौरान जेसीबी चालक मनजीत को अचानक सामने चांदी के सिक्के दिखाई पड़े। देखते ही देखते हवेली की जमीन से चांदी के बहुत सारे पुराने सिक्के निकलने लगे। इसके बाद पहले खुदाई कर रहे मजदूरों ने अपनी जेब में सिक्के भरे। जैसे ही ग्रामीणों को सिक्कों की सूचना मिली तो ग्रामीणों का हुजूम हवेली की ओर दौड़ पड़ा। ग्रामीणों ने दीवारों के साथ-साथ मिट्टी भी कई बार कुरेदी। ऐसे में जिसके हाथ जो भी लगा, वो लेकर चलता बना। हालांकि गांव में चर्चा है कि यहां दो मटके भी मिले हैं, जिनमें 30 किलो के करीब चांदी के सिक्के थे। उधर, इस बारे में तितरम थाने के प्रभारी सब इंस्पेक्टर महावीर सिंह से बात की गई तो उन्होंने इस बारे में सूचना मिलने की पुष्टि की। टीम वहां पहुंची तो वहां पुरानी हवेली थी और ग्रामीण वहां से जा चुके थे। अभी तक पुलिस को किसी भी प्रकार की कोई शिकायत नहीं मिली है, जिस पर कोई कानूनी कार्रवाई की जा सके।
January 23, 2021

हरियाणा में पुलिस कर्मियों की छुट्टियां रदद्, किसान आंदोलन के चलते लिया फैसला

 हरियाणा में पुलिस कर्मियों की छुट्टियां रदद्, किसान आंदोलन के चलते लिया फैसला

 चंडीगढ़– हरियाणा में पुलिस कर्मियों की छुट्टियां रदद्, किसान आंदोलन के चलते लिया फैसला