Breaking

Showing posts with label international news. Show all posts
Showing posts with label international news. Show all posts

Wednesday, September 14, 2022

September 14, 2022

भारत के समुद्री इलाके से पाकिस्तानी नाव जब्त, 200 करोड़ की ड्रग्स बरामद

भारत के समुद्री इलाके से पाकिस्तानी नाव जब्त, 200 करोड़ की ड्रग्स बरामद

भारतीय तटरक्षक बल (ICG) ने भारतीय समुद्री सीमा से एक पाकिस्तानी नाव जब्त की है। नाव से 40 किलोग्राम ड्रग्स (हेरोइन) बरामद की गई है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत 200 करोड़ रुपए बताई जा रही है। नाव के साथ चालक दल के 6 लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है। 

ये कार्रवाई गुजरात ATS के खुफिया इनपुट के आधार पर कई गई है। जानकारी के मुताबिक ICG को 13 सितंबर की रात को भारतीय समुद्री सीमा में पाकिस्तान नाव के होने की खुफिया जानकारी मिली। सूचना मिलते ही 2 जहाजों को फोरन गश्त के लिए भेजा गया। 
देर रात अचानक एक पाकिस्तानी नाव भारतीय जल समुद्री क्षेत्र में नजर आई. गश्ती कर रहे भारतीय जहाजों ने उन्हें रुकने का अलर्ट जारी किया। आरोपियों की थोड़ी टालमटोली के बाद नाव को जब्त कर लिया गया। 

नाव की तलाशी लेने पर उसमें 40 किलोग्राम ड्रग्स मिली। जांच एजेंसियों के द्वाच जांच लिए जाने के लिए नाव को जखाउ लाया जा रहा है। पिछले एक साल में भारतीय तटरक्षक बल और एटीएस गुजरात का इस तरह का यह पांचवां संयुक्त अभियान है। 
*पहले भी हुई ड्रग्स की बरामदगी*

1. 6 सितंबर को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने नार्को-टेरर पर बड़ी कार्रवाई की थी ।
पुलिस ने 1200 करोड़ रुपए की ड्रग्स जब्त की थी। इस ड्रग्स को बेचकर आने वाली रकम का इस्तेमाल हिंदुस्तान के खिलाफ आतंकी गतिविधियों में किया जाना था। 
2. 16 अगस्त को ACB के साथ मिलकर मुंबई पुलिस ने करीब 513 किलोग्राम एमडी (मेपेहड्रोन) दवा जब्त की थी। जब्त की गई दवाओं की कीमत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर करीब 1,026 करोड़ रुपए थी। एंटी नारकोटिक्स सेल की वर्ली यूनिट ने गुजरात के भरूच में इस ड्रग फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया था। यह फैक्ट्री अंकलेश्वर इलाके से चलाई जा रही थी। 
3. गुजरात के मुंद्रा पोर्ट पर भारी मात्रा में ड्रग्स पकड़ी गई थी। 3000 किलो पकड़े गए ड्रग्स के तार गुजरात से लेकर दिल्ली और अफगानिस्तान से लेकर दुबई तक से जुड़ते दिख रहे हैं। वहीं इस मामले में NIA की रडार पर दिल्ली का एक बड़ा बिजनेसमैन कबीर तलवार भी है, जो सम्राट होटल में Playboy नाम से एक प्राइवेट क्लब का मालिक है. उसे जल्द ही गिरफ्तार भी किया जा सकता है।

Tuesday, September 13, 2022

September 13, 2022

मक्का मस्जिद में शख्स ने किया ऐसा काम, Video देख भड़के मुस्लिम, हुई गिरफ्तारी

मक्का मस्जिद में शख्स ने किया ऐसा काम, Video देख भड़के मुस्लिम, हुई गिरफ्तारी

सऊदी अरब के मक्का शहर में यमन के एक नागरिक को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोप है कि यह शख्स क्वीन एलिजाबेथ के नाम का उमराह कर रहा था, जबकि किसी गैर मुसलमान के लिए ऐसा करना बिल्कुल मना है। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद शख्स को गिरफ्तार कर लिया गया। 
फोटो- गिरफ्तार हुआ यमन का नागरिक

सऊदी अरब पुलिस ने धार्मिक नगरी मक्का से यमन के एक नागरिक को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार हुआ यह शख्स ब्रिटेन की क्वीन एलिजाबेथ के निधन के बाद उनके नाम पर उमराह करने पहुंचा था। मक्का की बड़ी मस्जिद में बैनर हाथ में लिए इस शख्स का वीडियो क्लिप वायरल हो गया, जिसके ऊपर सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रियाएं मिलने लगीं। लोगों ने सोशल मीडिया पर शख्स को गिरफ्तार करने की मांग की। जिसके बाद यमन के शख्स को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।
दरअसल, इस्लाम में उमराह 15 दिनों का एक धार्मिक तरीका है, जिस दौरान इंसान सिर्फ नमाज और अल्लाह की बातों पर ध्यान देता है। उमराह के दौरान मर चुके लोगों की आत्मा की शांति के लिए दुआ भी की जाती है। लेकिन मृतक सिर्फ मुस्लिम ही होने चाहिए। 
*क्या लिखा था बैनर में ?*

यमन के शख्स ने जिस बैनर को हाथ में लिया हुआ है, उसमें लिखा है कि, महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की आत्मा के लिए उमरा. हम खुदा से कहते हैं कि क्वीन को जन्नत में जगह मिले.  
यमन के इस शख्स ने वीडियो क्लिप बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर की। जिसके बाद वीडियो जमकर वायरल हो गई। ट्विटर लोगों का वीडियो को देखते ही गुस्सा भड़क गया, जिसके बाद शख्स की गिरफ्तारी की मांग की जाने लगी। 
*जो मुसलमान नहीं, उसके नाम का उमराह भी नहीं*

यूं तो सऊदी अरब के मक्का शहर में श्रद्धालुओं को किसी भी तरह का बैनर या नारे लगाने के लिए मना किया जाता है। लेकिन अगर किसी का कोई अपना दुनिया में नहीं रहा है तो उसकी आत्मा की शांति के लिए उमराह किया जा सकता है। 

हालांकि,  सिर्फ मुस्लिम मृतक के लिए ही उमराह किए जाने की अनुमति मिलती है। अगर कोई दूसरे धर्म के व्यक्ति के नाम पर उमराह करना चाहेगा तो उसे अनुमति नहीं दी जाएगी। 
*वीडियो वायरल होते ही पुलिस का तुरंत एक्शन*

वीडियो वायरल होने पर सऊदी पुलिस ने इस मामले में तेजी से एक्शन लेते हुए बड़ी मस्जिद की क्लिप में दिखने वाले यमन के नागरिक को गिरफ्तार कर लिया। 
सऊदी अरब सरकार की ओर से बताया गया है कि मस्जिद के अंदर किसी गैर मुसलमान के नाम उमराह करना नियमों के खिलाफ है, जिसकी वजह से यमन के नागरिक की गिरफ्तारी की गई है।

Tuesday, September 6, 2022

September 06, 2022

Facebook यूजर्स को झटका! कंपनी बंद करने जा रही है ये फीचर, यूजर्स नहीं कर पाएंगे ये काम

Facebook यूजर्स को झटका! कंपनी बंद करने जा रही है ये फीचर, यूजर्स नहीं कर पाएंगे ये काम

Facebook और दूसरी टेक कंपनियां कई फीचर्स को समय-समय पर बंद करती रहती हैं। ज्यादातर कम यूज होने वाले फीचर को ही बंद किया जाता है। इस बार Facebook भी अपने एक फीचर को बंद कर रहा है. इससे कई यूजर्स प्रभावित होंगे। कंपनी ने बताया है कि फेसबुक का ये फीचर को अगले महीने से बंद हो जाएगा।
Facebook काफी ज्यादा पॉपुलर सोशल मीडियो प्लेटफॉर्म है। भारत में कई यूजर्स इस सोशल मीडिया नेटवर्क को यूज करते हैं। लेकिन, कंपनी यूजर्स को एक झटका देने वाली है। Facebook का एक फीचर जल्द बंद होने वाला है। जिससे यूजर्स अगले महीने ने उस फीचर को इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।
हम जिस फीचर की बात यहां कर रहे हैं उसका नाम Neighborhoods है। ये हाइपरलोकल फीचर है. इस फीचर को 1 अक्टूबर से बंद कर दिया जाएगा  इस फीचर की मदद से लोग अपने आसपास के लोगों के साथ कनेक्ट हो पाते थे।

इसके अलावा वो अपने एरिया में नई जगहों को भी डिस्कवर कर सकते थे। ये लोकल कम्युनिटी का हिस्सा है। इस फीचर को सबसे पहले कनाडा और अमेरिका जैसे देशों में साल 2022 में रोलआउट किया गया था। इसमें यूजर्स के पास च्वॉइस थी वो सर्विस को ज्वॉइन करके सेपरेट प्रोफाइल बना सकते थे।
*भारत में नहीं आया था फीचर*

हालांकि, इस फीचर को बड़े स्तर पर जारी नहीं किया गया है. इसको लेकर बताया गया कि मेटा को इसकी अहमियत समझ नहीं आई। Neighborhoods को शट डाउन करने का डिसीजन भी यही दिखाता है। लेकिन, कंपनी ने इसको लेकर कोई स्पष्ट कारण नहीं दिया है।
कंपनी अभी कॉस्ट कटिंग पर काम कर रही है। इससे कंपनी को जरूर मदद मिलेगी। इसके अलावा Neighborhoods के बंद होने से कंपनी के शेयरहोल्डर्स को भी कोई खास नुकसान नहीं होगा। इस वजह से भी कंपनी ने इसको बंद करने का फैसला किया है।
कंपनी ने एक स्टेटमेंट में बताया कि Neighborhoods को लॉन्च करने का मकसद लोकल कम्युनिटी को साथ लाना था। लेकिन, कंपनी ने सीखा है कि इसके लिए सबसे बढ़िया तरीका ग्रुप्स हैं। इसके लिए कंपनी ने कुछ गाइडलाइन्स भी तैयार किए थे। 1 अक्टूबर से ये सर्विस बंद हो जाएगी।

Friday, September 2, 2022

September 02, 2022

पायलटों की हड़ताल से लुफ्थांसा की 800 फ्लाइट्स रद्द:दिल्ली एयरपोर्ट पर फंसे यात्रियों का हंगामा, कहा- किराया वापस दो या फिर जाने का इंतजाम करो

पायलटों की हड़ताल से लुफ्थांसा की 800 फ्लाइट्स रद्द:दिल्ली एयरपोर्ट पर फंसे यात्रियों का हंगामा, कहा- किराया वापस दो या फिर जाने का इंतजाम करो

नई दिल्ली : जर्मनी की लुफ्थांसा एयरलाइंस के पायलट वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर शुक्रवार को एक दिन की हड़ताल पर हैं। इसके चलते एयरलाइंस का पूरा सिस्टम हिल गया है। दुनियाभर में आज लुफ्थांसा की 800 उड़ानों को रद्द किया गया है। इससे दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर भी 700 से ज्यादा यात्री फंसे हैं। फ्लाइट्स रद्द होने से यात्रियों ने एयरपोर्ट पर हंगामा किया, उनका कहना है कि हमारा किराया वापस करो या फिर जाने का इंतजाम करो।
*दिल्ली से उड़ान भरने वाली दो फ्लाइट्स रद्द*

फ्लाइट रद्द होने से गुस्साए यात्री हंगामा कर रहे हैं। इसके चलते एयरपोर्ट के अंदर सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गई है। दिल्ली एयरपोर्ट से लुफ्थांसा एयरलाइंस की 2 फ्लाइट्स थीं, जिनमें करीब 400 यात्रियों को म्यूनिख और फ्रैकफर्ट जाना था। पैसेजंर्स का कहना है कि जब वे एयरपोर्ट पर पहुंचे तो उन्हें पता चला कि फ्लाइट्स ही रद्द हो गई है।
*200 यात्रियों को दूसरी फ्लाइट से भेजा गया*

लुफ्थांसा एयरलाइंस से यात्रा करने वाले यात्रियों में से कुछ छात्र भी हैं, जिन्हें एग्जाम देने के लिए विदेश जाना था। छात्रों का कहना है कि फ्लाइट्स रद्द होने से हमारा भविष्य खतरे में है। वे एयरपोर्ट पर नारेबाजी कर रहे हैं। हंगामा बढ़ने पर एयरलाइन ने करीब 200 यात्रियों को दूसरी एयरलाइन के जरिए उनके डेस्टिनेशन पर भेजा है। अभी 500 यात्री दिल्ली एयरपोर्ट पर फंसे हुए हैं।
*वेतन बढ़ाने और महंगाई भत्ते की मांग कर रहे पायलट*

पायलटों के यूनियन ने इस साल 5,000 से अधिक पायलटों के वेतन में 5.5% की वृद्धि और महंगाई भत्ते की मांग की है। जब उनकी मांगें पूरी नहीं हुईं तो पायलटों ने एक दिन की हड़ताल कर दी। इससे पहले लुफ्थांसा को इस साल वेतन बढ़ाने के लिए सिक्योरिटी वर्कर्स और ग्राउंड स्टाफ की ओर से कई बार हड़ताल का सामना करना पड़ा है।
जुलाई में एयरलाइन को जर्मनी की शक्तिशाली वर्डी यूनियन की ओर से बुलाए गए एक दिन के वाकआउट का सामना करना पड़ा था, जिससे फ्रैंकफर्ट और म्यूनिख में घरेलू केंद्रों पर इसकी उड़ानें प्रभावित हुईं थी।

Sunday, August 28, 2022

August 28, 2022

गणेश स्थापना पर बुधवार-चतुर्थी का शुभ संयोग:300 साल बाद गणेश चतुर्थी पर लंबोदर योग, 31 अगस्त को वो योग भी जिसमें पार्वती ने मिट्टी के गणेश बनाए थे

गणेश स्थापना पर बुधवार-चतुर्थी का शुभ संयोग:300 साल बाद गणेश चतुर्थी पर लंबोदर योग, 31 अगस्त को वो योग भी जिसमें पार्वती ने मिट्टी के गणेश बनाए थे

31 अगस्त को आ रही गणेश चतुर्थी कई मायनों में बहुत खास है। अकेले चतुर्थी ही शुभ नहीं है बल्कि 31 अगस्त से 9 सितंबर के बीच 7 दिन अच्छे योग भी बन रहे हैं। इन सात दिनों में आप सिर्फ गणपति की पूजा ही नहीं, बल्कि अपने लिए कई शुभ काम जैसे नए बिजनेस की शुरुआत से लेकर घर और वाहन खरीदने तक के काम कर सकते हैं। देश के जाने-माने विद्वानों ने इन 10 दिनों के वो 7 शुभ मुहूर्त बताए हैं, जो आपके लिए खास हो सकते हैं।
31 अगस्त के खास होने 2 बड़े कारण

पहला कारण तो ये है कि इस साल वो सारे योग-संयोग बन रहे हैं, जो गणेश जी के जन्म पर बने थे। दिन बुधवार, तिथि चतुर्थी, नक्षत्र चित्रा और मध्याह्न काल यानी दोपहर का समय। ये ही वो संयोग था जब पार्वती जी ने मिट्टी के गणेश बनाए थे और शिव जी ने उसमें प्राण डाले थे। इसके अलावा भी कुछ दुर्लभ और शुभ योग बन रहे हैं जो 31 अगस्त से 9 सितंबर तक गणेश उत्सव के दौरान रहेंगे।

इस गणेश उत्सव में एक खास बात ये भी है कि इन 10 दिनों में रोज कोई शुभ योग बन रहा है, जिसमें आप इन्वेस्टमेंट से लेकर व्हीकल खरीदी तक कई शुभ काम कर सकेंगे। साथ ही, एक ऐसा दुर्लभ योग भी बन रहा है जो पिछले 300 सालों में नहीं बना। इन सारे योगों के बारे में हमने केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय मुंबई, तिरुपति और पुरी के ज्योतिषाचार्य असि. प्रो. जी. सागर रेड्डी, डॉ. कृष्ण कुमार भार्गव और डॉ. गणेश मिश्र से बात की। जानिए, उनकी नजर में ये गणेशोत्सव किन कारणों से बहुत खास बन रहा है।
डॉ. गणेश मिश्र कहते हैं, इस बार गणेश उत्सव के दौरान नवमी तिथि घट रही है। फिर भी गणपति महोत्सव पूरे 10 दिनों का ही रहेगा। इन दिनों सूर्य, बुध, गुरु और शनि अपनी ही राशियों में रहेंगे। पिछले 300 सालों में ऐसा नहीं हुआ। इस संयोग में फ्लैट बुक करना, प्रॉपर्टी, ज्वेलरी या व्हीकल खरीदी हो या फिर कोई टोकन मनी देना चाह रहे हैं तो इसके लिए सात शुभ मुहूर्त मिलेंगे।

सितारों की बात करते हुए डॉ. गणेश मिश्र ने कहा कि इस बार गुरु ग्रह से देह स्थूल योग बन रहा है। इसे आसान भाषा में लंबोदर योग भी कहते हैं। जो कि गणेश जी का ही एक नाम है। साथ ही गणपति के जन्म काल के वक्त वीणा, वरिष्ठ, उभयचरी और अमला नाम के योग भी बनेंगे। इन पांच राजयोगों के बनने से इस बार गणेश स्थापना बेहद शुभ रहेगी।
असि. प्रो. जी. सागर रेड्डी बताते हैं कि गणेश चतुर्थी से ही अगले 10 दिन तक खरीदारी के लिए कई शुभ योग बन रहे हैं। इसके बाद 10 सितंबर से श्राद्ध पक्ष शुरू हो जाएगा। महाराष्ट्र समेत कई जगहों पर गणेश चतुर्थी को अबूझ मुहूर्त मानते हैं, क्योंकि गणपति पूजा से हर दोष खत्म होता है इसलिए गणेश जी की जन्म तिथि और नक्षत्र पर हर तरह की खरीदारी, नई शुरुआत, निवेश और लेन-देन करना शुभ होता है।

गणेशोत्सव के बाकी दिनों के बारे में इनका कहना है कि इस दौरान सर्वार्थसिद्धि, राजयोग और रवियोग बनने से नौ दिन शुभ संयोग रहेंगे। इनमें भी सात मुहूर्त ऐसे होंगे जिनमें प्रॉपर्टी और ज्वेलरी से लेकर व्हीकल तक हर तरह की खरीदी करना फायदेमंद होगा।
डॉ. कृष्ण कुमार भार्गव का कहना है, 31 को गणपति स्थापना के साथ तीज-त्योहारों का दौर भी शुरू हो जाएगा। गणेश चतुर्थी के अगले दिन ऋषि पंचमी रहेगी। सुहागनें इस दिन भी व्रत-उपवास रखकर सप्त ऋषियों की पूजा करेंगीं। फिर शुक्रवार को भगवान कार्तिकेय की पूजा होगी। शनिवार को दूर्वाष्टमी होने से गणेश मंदिरों में दूर्वा से विशेष पूजा और श्रंगार किया जाएगा। इस दिन राधाष्टमी व्रत भी रहेगा।
रविवार को नवमी तिथि का क्षय होगा। फिर, सोम, मंगल और बुध तीनों दिन भगवान विष्णु की पूजा के रहेंगे। इनमें सोमवार को दस अवतारों की पूजा, मंगलवार को एकादशी व्रत और बुधवार को वामन अवतार का प्राकट्योत्सव मनेगा। गुरुवार को प्रदोष व्रत के साथ शिव-पार्वती पूजा रहेगी। आखिरी दिन अनंत चतुर्दशी पर गणेश विसर्जन होगा।

मिट्टी के गणेश किस रूप में बनाएं और कौन सा रूप घर, दुकान, ऑफिस और फैक्ट्रियों के लिए शुभ है। इस पर हमने देश के जाने-माने विद्वानों से बात की तो पता चला कि सिद्धि विनायक रूप की मूर्ति घर में स्थापित करनी चाहिए। विघ्नेश्वर गणेश ऑफिस और दुकानों के लिए और महागणपति की स्थापना कारखानों के लिए शुभ है। इन तीनों रूप कैसे होते हैं ये जानने के लिए (यहां पढ़ें पूरी स्टोरी)

31 अगस्त को गणेश चतुर्थी पर घरों में मिट्टी के गणेश जी स्थापित किए जाएंगे। । गणेश उत्सव में अभी 3 दिन बाकी हैं, आज ही अपने घर के लिए मिट्टी के गणेश बना लें, 2 से 3 मूर्ति को सूखने में लगेंगे और फिर आप इसका डेकोरेशन कर सकेंगे। तो, इस गणेश उत्सव में आप अपने घर में खुद मिट्टी के गणेश बनाएं और स्थापित करें।

Saturday, August 27, 2022

August 27, 2022

FIFA ने दी बड़ी राहत, भारतीय फुटबॉल संघ से बैन हटा, भारत में ही होगा अंडर-17 महिला वर्ल्ड कप

FIFA ने दी बड़ी राहत, भारतीय फुटबॉल संघ से बैन हटा, भारत में ही होगा अंडर-17 महिला वर्ल्ड कप

नई दिल्ली : फीफा ने अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (AIFF) पर लगाए गए बैन को हटा दिया है। साथ ही भारत को फिर से अंडर-17 महिला विश्व कप 2022 की मेजबानी सौंप दी है। एआईएफएफ की कार्यकारी समिति द्वारा दैनिक मामलों पर पूर्ण नियंत्रण हासिल करने के बाद फीफा ने यह फैसला किया है।
भारतीय फुटबॉल पर छाया संकट संकट समाप्त हो गया है। फीफा ने अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (AIFF) पर लगाए गए बैन को हटा दिया है। साथ ही भारत को फिर से अंडर-17 महिला विश्व कप 2022 की मेजबानी सौंप दी है।
एआईएफएफ के कार्यकारी समिति द्वारा दैनिक मामलों पर पूर्ण नियंत्रण हासिल करने के बाद फीफा ने यह फैसला किया है। फीफा और एएफसी  एआईएफएफ में परिस्थितियों की निगरानी करना जारी रखेंगे और समय पर चुनाव कराने में एआईएफएफ का समर्थन करेंगे।
*सुप्रीम कोर्ट के नए निर्णय से हुआ बदलाव*

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (AIFF) के कामकाज की संचालन करने वाली तीन सदस्यीय समिति (COA) को भंग करने का आदेश दिया। साथ ही कोर्ट ने आदेश दिया था कि एआईएफएफ के रोजाना के कामकाज को कार्यवाहक महासचिव संभालेंगे.साथ ही कोर्ट ने एआईएफएफ की कार्यकारी समिति कार्यकारी समिति के भी गठन का फैसला किया था।
इस समिति में 23 सदस्य होंगे जिनमें छह खिलाड़ी (दो महिला खिलाड़ी) होंगे। यही नहीं कोर्ट ने 28 अगस्त को होने वाले चुनाव को एक सप्ताह के लिए स्थगित करने का भी आदेश दिया है ताकि मतदाता लिस्ट में बदलाव और नामांकन प्रक्रिया की शुरूआत हो सके।
*16 अगस्त को लगाया गया था बैन*

फीफा ने तीसरी पार्टी के हस्तक्षेप का हवाला देते हुए 16 अगस्त को एआईएफएफ पर प्रतिबंध लगा दिया था। तब फीफा ने आधिकारिक बयान में कहा था, 'फीफा परिषद के ब्यूरो ने सर्वसम्मति से तीसरे पक्ष के अनुचित प्रभाव के कारण अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने का फैसला किया है। यह फीफा के नियमों का गंभीर उल्लंघन है।
बैन हटने के बाद अब 11-30 अक्टूबर 2022 तक होने वाला FIFA अंडर-17 महिला विश्व कप 2022 भारत में पुराने कार्यक्रम के अनुसार आयोजित किया जाएगा।

Tuesday, August 23, 2022

August 23, 2022

दिल्ली में एयर ट्रैफिक कंट्रोलर ने ड्रग्स ली, सस्पेंड:बिना सूचना DGCA की जांच में पॉजिटिव मिला, पहली बार ऐसी कार्रवाई

दिल्ली में एयर ट्रैफिक कंट्रोलर ने ड्रग्स ली, सस्पेंड:बिना सूचना DGCA की जांच में पॉजिटिव मिला, पहली बार ऐसी कार्रवाई

नई दिल्ली ; दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर एयर ट्रैफिक कंट्रोलर (ATC) साइकोएक्टिव पदार्थ की जांच में पॉजिटिव पाया गया है। ऐसा देश में पहली बार हुआ है। इस घटना के बाद डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने अफसर को ड्यूटी से हटा दिया है। यह ड्रग टेस्टिंग बिना किसी सूचना के की गई थी।

रिपोर्ट 18 अगस्त को पॉजिटिव आई थी। इसके बाद अफसर को सस्पेंड किया गया। ATC के ड्रग्स लेने के बाद सस्पेंशन की कार्रवाई का ये देश में पहला मामला है।
*क्या होते हैं साइकोएक्टिव पदार्थ?*

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की एक स्टडी और फरवरी 2019 में पब्लिश रिपोर्ट का हवाला देते हुए DGCA ने कहा है कि शराब के बाद भारत में भांग और ओपिओइड यानी हेरोइन जैसे नशीले पदार्थ आमतौर पर इस्तेमाल होने वाले साइकोएक्टिव प्रोडक्ट हैं।
*क्रू और ATC की जांच के नए नियम जनवरी से लागू*

न्यूज एजेंसी PTI ने सूत्रों के हवाले से बताया कि 31 जनवरी 2022 को साइकोएक्टिव पदार्थों के लिए फ्लाइट क्रू और ATC की जांच के नियम लागू होने के बाद देश में ATC का साइकोएक्टिव पदार्थ के लिए पॉजिटिव होने का यह पहला मामला है।

जारी किए गए नियमों को सिविल एविएशन रिक्वायरमेंट (CAR) कहा जाता है। इनके मुताबिक एयरपोर्ट्स पर ड्रग टेस्ट रैंडम बेसिस पर किया जाता है। निकाले गए कर्मचारी की टेस्ट रिपोर्ट 18 अगस्त को पॉजिटिव आई थी।
*टेस्ट पॉजिटिव होने पर क्या कार्रवाई होती है?*

नियम लागू होने के बाद से अब तक कई एयरलाइंस के 3 पायलट की ड्रग टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी हैं। नियमों के मुताबिक पॉजिटिव कर्मचारियों को नशामुक्त करने के लिए उन्हें नशामुक्ति केंद्र भेजा जाएगा।

कोई कर्मचारी दूसरी बार पॉजिटिव आता है तो उसका लाइसेंस तीन साल के लिए निलंबित कर दिया जाएगा। तीसरी बार नियमों का उल्लंघन करने पर व्यक्ति का लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा।

Sunday, August 21, 2022

August 21, 2022

मेगा एम्पायरजॉनसन एंड जॉनसन 136 साल पुरानी कंपनी:8 महिलाओं के साथ शुरू हुई, अब महिलाओं ने कंपनी पर 38 हजार केस किए

मेगा एम्पायरजॉनसन एंड जॉनसन 136 साल पुरानी कंपनी:8 महिलाओं के साथ शुरू हुई, अब महिलाओं ने कंपनी पर 38 हजार केस किए

जॉनसन एंड जॉनसन…फार्मा जगत की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक जिसकी 60 से अधिक देशों में 275 से अधिक ऑपरेटिंग कंपनियां हैं। दुनिया भर में करीब डेढ़ लाख कर्मचारी, वहीं भारत में लगभग 6 हजार लोग इस कंपनी में काम करते हैं। 1886 में जॉनसन एंड जॉनसन की स्थापना हुई थी, तब कंपनी के पहले 14 कर्मचारियों में से 8 महिलाएं थीं। 2013 में "वर्किंग मदर" मैगजीन ने जॉनसन एंड जॉनसन को वर्किंग मदर्स के लिए सर्वश्रेष्ठ कंपनियों में से एक बताया था। आज यही कंपनी महिलाओं द्वारा दायर लगभग 38 हजार से ज्यादा मुकदमों का सामना कर रही है।

*आज मेगा एम्पायर में जानिए जॉनसन एंड जॉनसन के बारे में…*

एक भाषण से प्रेरित होकर तीन भाइयों ने शुरू की थी जॉनसन एंड जॉनसन
जॉनसन ब्रदर्स: रॉबर्ट वुड, जेम्स वुड और एडवर्ड मीड जॉनसन (बाएं से दाएं)

साल था 1886, जब तीन भाइयों - रॉबर्ट वुड जॉनसन, जेम्स वुड जॉनसन और एडवर्ड मीड जॉनसन ने अमेरिका के न्यू जर्सी में जॉनसन एंड जॉनसन की नींव रखी। कहा जाता है कि 1885 में एंटीसेप्टिक एडवोकेट जोसेफ लिस्टर के एक भाषण को सुनने के बाद जॉनसन भाइयों को यह बिजनेस शुरू करने की प्रेरणा मिली। यह वो वक्त था, जब अमेरिका में बहुत बड़े स्तर पर इंफ्रा का निर्माण हो रहा था। रेल लाइंस बिछाई जा रही थीं। ऐसे में छोटी-छोटी दुर्घटनाएं बहुत होती थीं। इस समय तक रेडी टू यूज सर्जिकल किट के बारे में किसी ने सोचा तक नहीं था। इसी विचार ने तीनों जॉनसन भाइयों को यह कंपनी बनाने का आइडिया दिया।रॉबर्ट वुड जॉनसन कंपनी के पहले प्रेसिडेंट बने और सैनिटेशन प्रैक्टिस में सुधार के लिए काम शुरू किया। जॉनसन एंड जॉनसन ने सबसे पहले एक फर्स्ट एड किट बनाई, जिसे रेलकर्मियों की मदद के लिए डिजाइन किया गया था।
*मैटरनिटी किट और बेबी पाउडर से हर घर तक पहुंचा जॉनसन*

1894 में मैटरनिटी किट के लॉन्च के साथ जॉनसन एंड जॉनसन का हेरिटेज बेबी बिजनेस शुरू हुआ। इन किट का उद्देश्य बच्चे के जन्म के वक्त मां और बच्चे को हर रुप से सुरक्षित रखना था। इसी साल जॉनसन का बेबी पाउडर भी बिक्री के लिए मार्केट में आया। यह बेहद सफल रहा। रॉबर्ट वुड जॉनसन की पोती- मैरी ली की तस्वीर बेबी पाउडर के डिब्बे पर आई। मैरी…पहली वो बच्ची थी, जिसकी तस्वीर को बेबी पाउडर के प्रचार के लिए इस्तेमाल किया गया।

*जॉनसन एंड जॉनसन के फार्मा किंग बनने की कहानी*

1959 में, जॉनसन एंड जॉनसन ने अमेरिका में McNeil Laboratories का अधिग्रहण किया और यूरोप में Cilag Chemie, AG का भी अधिग्रहण किया। इन दो अधिग्रहणों ने कंपनी को पहली बार फार्मा के क्षेत्र में एक एंपायर के रूप में स्थापित किया। इसके बाद जॉनसन एंड जॉनसन ने बच्चों के लिए पहला एस्पिरिन मुक्त पेन रिलीवर लॉन्च किया, जो बेहद हिट रहा।
*एक कर्मचारी की पत्नी को चोट लगी…तब डेवलप हुई बैंड एड*

अर्ले डिक्सन जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी में काम करते थे। उनकी पत्नी जोसेफिन जब भी किचन में काम करतीं तो कई बार उन्हें चोट लग जाती थी। वे चोट पर तुरंत कपड़े की पट्टी लगा लेती थीं, लेकिन बिना प्रॉपर सपोर्ट के कारण पट्टी जल्द ही सरक कर गिर जाती था। इसी से अर्ले डिक्सन को एक आइडिया आया। उन्होंने दवाओं की ढेर सारी रेशमी पट्टियों को स्क्वायर में काटा और उसको टेप के ऊपर चिपका दिया। कंपनी के मालिक जेम्स वुड ने जब अर्ले से इस बैंडेज के बारे में सुना तो वे भी चौंक गए। यह आइडिया कंपनी में सभी को इतना पसंद आया कि उसी तर्ज पर कंपनी ने 1920 के बाद से ‘बैंड-एड’ बनाने शुरू कर दिए। और जल्द ही अर्ले डिक्सन को कंपनी का वाइस प्रेसिडेंट भी बना दिया गया।

*कोविड में कंपनी ने बनाई फ्रीज ना करने वाली सिंगल डोज वैक्सीन*

कोविड से लड़ने के लिए जॉनसन एंड जॉनसन ने जिस सिंगल डोज वैक्सीन का निर्माण किया, उसे अस्पताल भेजे जाने तक फ्रीजर में रखने की जरूरत नहीं थी। इससे पहले कभी भी वैक्सीन टेस्टिंग और उसका निर्माण इतनी तेजी से नहीं हुआ था। जॉनसन एंड जॉनसन ने कोरोना वायरस से जीन लेकर ह्यूमन सेल तक पहुंचाने के लिए एडीनोवायरस का इस्तेमाल किया था। एडीनोवायरस का काम वैक्सीन को ठंडा रखना होता है, लेकिन इसे फ्रीज करने की जरूरत नहीं होती है।
*रेवेन्यू में आज भी जॉनसन सबसे बड़ी फार्मा कंपनियों में से एक*

जॉनसन एंड जॉनसन ने कोविड-19 से लड़ने के लिए अमेरिकी सरकार के साथ साझेदारी कर स्वयं के टीके पर काम शुरू किया था। शुरुआत में कंपनी की स्थिति बाकी कंपनियों की तरह कोविड से प्रभावित हुई। लेकिन कंपनी अपने कई प्रमुख प्रतिद्वंद्वियों के डबल डोज वाले दृष्टिकोण के विपरीत, अपनी सिंगल डोज वैक्सीन के साथ आगे बढ़ी। मौजूदा समय में कंपनी कई अहम प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। जिसमें लीजेंड बायोटेक के साथ साझेदारी में विकसित सीएआर-टी थेरेपी शामिल है। रेवेन्यू के मामले में आज भी जॉनसन एंड जॉनसन दुनिया की सबसे बड़ी फार्मा कंपनियों में से एक बनी हुई है। 2021 में कंपनी का रेवेन्यू 93.77 बिलियन डॉलर(करीब 7 करोड़ रुपए) था।
*हर घर में मिलने वाला 128 साल पुराना जॉनसन पाउडर बंद हो रहा है*

जॉनसन बेबी टैल्क पाउडर 1894 से बेचा जा रहा है। फैमिली फ्रेंडली होने की वजह से यह कंपनी का सिंबल प्रोडक्ट बन गया था। जॉनसन एंड जॉनसन का बेबी पाउडर सबसे प्रसिद्ध टैल्कम पाउडर में से एक रहा है। 128 सालों से यह हर घर का हिस्सा बना हुआ है। भारत में 1947 से जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा स्थानीय रूप से टैल्कम पाउडर बेचा जाता है। भारत में निर्मित टैल्कम पाउडर को श्रीलंका, नेपाल, मालदीव जैसे पड़ोसी देशों में भी बेचा जाता है। जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी अपना बेबी पाउडर 2023 से बेचना बंद कर देगी। अब कंपनी टैल्क बेस्ड पाउडर की जगह कॉर्न स्टार्च बेस्ड पाउडर लाएगी। कंपनी का पाउडर अमेरिका और कनाडा में सालभर पहले ही बंद हो चुका है। कंपनी ने कहा है कि अमेरिका में चल रहे हजारों कंज्यूमर सेफ्टी केस के चलते इस प्रॉडक्ट की बिक्री बंद कर दी गई है। हालांकि जॉनसन एंड जॉनसन ने लगातार इन दावों से इनकार किया है कि उसके प्रोडक्ट कैंसर का कारण बन सकते हैं।

Wednesday, August 17, 2022

August 17, 2022

ईरान के तेहरान में छाया करनाल का छोरा:वॉलीबाल में थाईलैंड की टीम को हराया, कल कोरिया के खिलाड़ियों के साथ मुकाबला

ईरान के तेहरान में छाया करनाल का छोरा:वॉलीबाल में थाईलैंड की टीम को हराया, कल कोरिया के खिलाड़ियों के साथ मुकाबला

करनाल : हरियाणा के करनाल जिले के गांव पोपड़ा का छोरा शेखर ईरान में छाया हुआ है। अंडर-18 वॉलीबॉल की भारतीय टीम में कुछ दिन पहले उसका चयन हुआ था और अब भारत की टीम ईरान (तेहरान) में आयोजित एशियन वॉलीबॉल चैम्पियनशिप खेल रही है।
मंगलवार को भारतीय टीम का मैच थाईलैंड के साथ हुआ था, जिसमें टीम ने काफी अंको के मार्जन से थाईलैंड की टीम को मात दी। करनाल के छोरे शेखर ने मैच में खूब दमखम दिखाया। कल यानी मंगलवार को भारतीय टीम का मैच कोरिया के साथ होने जा रहा।

*किसान परिवार से है शेखर*

बता दें कि करनाल के गांव पोपड़ा के रहने वाला शेखर एक साधारण किसान के परिवार से है। उससे पहले परिवार के किसी भी सदस्य का खेलों से कोई नाता नहीं रहा है। अपनी मेहनत और काबिलियत के बलबूते शेखर का चयन भारत की वॉलीबॉल अंडर-18 टीम में हुआ है।
*टीम के अन्य खिलाड़ियों के साथ शेखर।*

*12वीं कक्षा का विद्यार्थी शेखर*

शेखर जब चोरकारसा के स्कूल में प्राथमिक शिक्षा ग्रहण कर रहा था तो प्रशिक्षक प्रवीण के नेतृत्व में चांद कौर अकादमी में वॉलीबॉल खेलना शुरू किया। 17 वर्षीय शेखर की फुर्ती और ऊंचे कद के कारण उसकी वॉलीबॉल में पहचान बनी और बेहतरीन प्रदर्शन के चलते भारतीय खेल प्राधिकरण कुरूक्षेत्र में शेखर का चयन हो गया। फिलहाल शेखर 12वीं का विद्यार्थी है और कुरूक्षेत्र में ही पढ़ाई के साथ-साथ वॉलीबॉल का अभ्यास करता है।
*देश के लिए मेडल जीतने का लक्ष्य*

शेखर के मामा अरविंदर मेहला ने बताया कि शेखर का लक्ष्य देश की सीनियर वॉलीबॉल टीम में खेलकर मेडल जीतने का है। वॉलीबॉल में बेहतरीन प्रदर्शन करने के कारण ही उसे भारत की अंडर-18 टीम में शामिल किया गया है। मंगलवार को थाइलैंड की टीम के साथ मुकाबला था, जो उन्होंने जीत लिया। अब कल यानी 18 अगस्त को कोरिया की टीम के साथ भारत की टीम का मुकाबला है। कोच राहुल सांगवान के नेतृत्व में चैम्पियनशिप जीतकर 28-29 अगस्त को वापसी करेंगे।
August 17, 2022

एपल में छंटनी’, 100 अनुबंधित कर्मी बाहर, गूगल ने भी कर्मियोंं को दी है चेतावनी

एपल में छंटनी’, 100 अनुबंधित कर्मी बाहर, गूगल ने भी कर्मियोंं को दी है चेतावनी

गूगल की अपने कर्मचारियों को ‘ब्लड इन द स्ट्रीट्स’ की चेतावनी जारी करने के बाद अब एपल ने भी कई कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कंपनी ने अपनी हायरिंग और स्पेंडिंग में कमी लाने के लिए यह कदम उठाया है।
ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार एपल ने कंपनी से कांट्रेक्ट के आधार पर जुड़े लगभग सौ नियोक्ताओं को, जो कि दुनिया की सबसे बहुमूल्य कंपनी एपल के लिए कर्मचारियों की बहाली का काम करते थे उन्हें हटा दिया है।
जिन कर्मचारियों का कान्ट्रैक्ट रद्द किया गया है उन्हें कपनी की ओर से कहा गया है कि उन्हें दो हफ्ते का भुगतान और मेडिकल सुविधाएं मिलेंगीं। वहीं, इस रिपोर्ट के अनुसार ऐसे नियोक्ता जो कंपनी के साथ फुल टाइम कर्मचारी के रूप में जुड़े हैं उन्हें रिटेन किया गया है।
एपल ने हटाए गए कर्मियों को कहा है कि यह छंटनी कंपनी की वित्तीय जरूरतों को देखते हुए की गई है। कंपनी के चीफ एग्जीक्यूटिव टीम कुक ने पिछले महीने कहा था कि एपल अपने खर्चे सोच-समझकर करेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार टीम कुक ने कहा था कि हम मंदी के दौरान निवेश करने में विश्वास करते हैं। कंपनी कर्मियों की नियुक्त जारी जारी रखेगी और अलग जरूरी क्षेत्रों में खर्च करेगी पर ऐसा वह बाजार के हालात को देखते हुए करेगी।
इससे पहले, टेक वर्ल्ड की दिग्गज कंपनी गूगल ने अपने कर्मचारियों को अगर परिणाम नहीं आने पर छंटनी की चेतावनी दी थी।
गूगल के सीईओ सुंदर पिचई ने इसी महीने कहा है कि वे कंपनी के कंर्मचारियों के वर्क आउटपुट से संतुष्ट नहीं है। उन्होंने कहा था कि कंपनी की उत्पादकता जितनी होनी चाहिए उससे कम है।

Tuesday, August 16, 2022

August 16, 2022

राष्ट्रमंडल खेलों के पदकवीरों का सम्मान:प्रदेश सरकार ने 42 खिलाड़ियों को 25.80 करोड़ रुपए के इनाम से नवाजा

राष्ट्रमंडल खेलों के पदकवीरों का सम्मान:प्रदेश सरकार ने 42 खिलाड़ियों को 25.80 करोड़ रुपए के इनाम से नवाजा

गुरुग्राम : सीएम ने कहा कि अब हरियाणा में पदक लाओ-पद पाओ नहीं बल्कि इससे आगे बढ़ते हुए पदक लाओ-पदक बढ़ाओ की सोच पर आगे बढ़ना है।
स्वर्ण पदक विजेता को 1 करोड़ 50 लाख रुपए, रजत पदक विजेता को 75 लाख रुपए और कांस्य पदक विजेता को 50 लाख रुपए के नकद पुरस्कार दिए गए
राष्ट्रमंडल खेलों के खिलाड़ियों के सम्मान में हरियाणा सरकार द्वारा सोमवार को गुड़गांव में सम्मान समारोह किया गया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विजेता व प्रतिभागी 42 खिलाड़ियों को 25 करोड 80 लाख रुपए के नकद इनाम, जॉब आफर लेटर और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।
मुख्यमंत्री ने सेक्टर-44 स्थित अपैरल हाउस सभागार में आयोजित सम्मान समारोह में अपने संबोधन के दौरान खिलाड़ियों से भी स्वयं के साथ-साथ नई प्रतिभाओं के मार्गदर्शक बनने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि अब हरियाणा में पदक लाओ-पद पाओ नहीं बल्कि इससे आगे बढ़ते हुए पदक लाओ-पदक बढ़ाओ की सोच पर आगे बढ़ना है। सभी की सहभागिता ही दुनिया में भारत के पदक तालिका में बढ़ोतरी का माध्यम बनेगी। उन्होंने कहा कि भारत को दुनिया में खेलों के क्षेत्र में अग्रणी बनाने में हरियाणा अपना बेस्ट दे रहा है।
इस बार के राष्ट्रमण्डल खेलों में भाग लेने वाले देश के 215 खिलाड़ियों में से 42 युवा हरियाणा के हैं। हरियाणा के खिलाड़ियों ने देश के 61 में से 20 पदक जीते हैं। इनमें से 17 पदक व्यक्तिगत स्पर्धा में और 3 पदक टीम इवेंट में हैं।विजेता व प्रतिभागी खिलाड़ियों का सम्मानराष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक विजेता को 1 करोड़ 50 लाख रुपए, रजत पदक विजेता को 75 लाख रुपए और कांस्य पदक विजेता को 50 लाख रुपए के नकद पुरस्कार दिए गए। वहीं चौथे स्थान पर आने वाले को 15 लाख रुपए की राशि दी गई। इसके साथ-साथ राष्ट्रमंडल खेलों में शामिल होने वाले खिलाड़ियों को साढ़े 7 लाख रुपए की राशि दी गई। बर्मिंघम राष्ट्रमण्डल खेल-2022 में हरियाणा के भारतीय महिला हॉकी टीम में शामिल खिलाड़ियों सहित कुल 29 खिलाड़ियों ने पदक जीते हैं। इन्हें प्रदेश की खेल नीति के अनुसार कुल 25 करोड़ 80 लाख रुपए की नकद ईनाम राशि दी गई। इनका हुआ सम्मानहरियाणा के जिला सोनीपत के सुधीर ने पैरा पॉवर लिफ्टिंग खेल में गोल्ड मैडल जीता है। सुधीर पैरा पॉवर लिफ्टिंग में गोल्ड मैडल जीतने वाले पहले भारतीय हैं। इसी प्रकार, हरियाणा ने बॉक्सिंग में 2 गोल्ड, 1 सिल्वर व 1 कांस्य पदक, कुश्ती में 6 गोल्ड, 1 सिल्वर तथा 4 कांस्य पदक तथा एथलेटिक्स में 1 कांस्य पदक जीता है। भारतीय महिला हॉकी टीम ने कांस्य पदक जीता है। यह टीम लगभग हरियाणा की ही है, क्योंकि इसमें प्रदेश की 9 बेटियां खेल रही हैं। भारतीय हॉकी टीम की कैप्टन के रूप में सविता पूनिया ने नेतृत्व किया, जोकि सिरसा की रहने वाली है। इस प्रकार हरियाणा प्रदेश के खिलाड़ियों ने देश के कुल पदकों का 28 प्रतिशत पदक जीतकर देश व प्रदेश का नाम रोशन किया। इसमें हॉकी को भी शामिल कर लिया जाए, तो यह बढ़कर 32.7 प्रतिशत हो जाता है।खेल के लिए 526 करोड़ रुपए का बजटमुख्यमंत्री ने कहा कि भारत को दुनिया में खेलों के क्षेत्र में अग्रणी बनाने में हरियाणा अपना बेस्ट दे रहा है। खेल क्षेत्र में बजट को डबल करते हुए 526 करोड़ रुपए कर दिया गया है।