Breaking

Showing posts with label National News. Show all posts
Showing posts with label National News. Show all posts

Friday, October 9, 2020

October 09, 2020

ऐसी मौत किसी को न दे भगवान, ट्रेन के इंजन में फंसकर कई किलोमीटर तक घसिटा शख्स, क्षतविक्षत हुआ शरीर

ऐसी मौत किसी को न दे भगवान, ट्रेन के इंजन में फंसकर कई किलोमीटर तक घसिटा शख्स, क्षतविक्षत हुआ शरीर

नई दिल्ली: मौत का कोई कयाम नहीं है, पता नहीं कब लेने आ जाये।लेकिन महत्वपूर्ण ये हो जाता है कि वह आएगी किस रूप में, क्योंकि उसके अनगिनत रूप है।जहां उसके कुछ रूप पीड़ाहीन, भयावहहीन हैं वहीं उसके कुछ रूप अत्यंत पीड़ादायक और भयावह प्रकृति से परिपूर्ण हैं।इधर, बिहार के कटिहार में एक शख्स की ऐसी मौत हुई है जिसके बारे में जानकर रूह कांप जाती है।घोर पीड़ा देते हुए इस शख्स को मौत अपने साथ ले गई।
दरअसल, यह शख्स पता नहीं कैसे एक मालगाड़ी के इंजन में फंस गया।जिसका पता ट्रेन चलाने वालों को नहीं चल सका।शख्स इंजन के आगे लगे लोहे के हुक में फंसा हुआ था।ट्रेन चल पड़ी और शख्स लोहे के हुक में फंसा का फंसा रहा।इंजन में कोई शख्स फंसा हुआ है इस बात से अंजान ट्रेन तो अपनी स्पीड में दौड़ रही थी।और यह शख्स पल-पल पथरियों में घिसता जा रहा था।आलम यह हुआ कि शख्स के पैर कट गए।खून की धाराएं पटरियों और पथरियों को लहूलुहान करती चली आ रही थीं।आखिरकार, घसिटते हुए इस शख्स के शरीर से मौत जिंदगी को घसीट ले गई।मर गया शख्स।
वहीं, कोई शख्स इंजन में फंसा हुआ है इसकी जानकारी ट्रेन चलाने वालों को तब हुई जब ट्रेन एक स्टेशन आकर रुकी।शख्स को फौरन लोहे के हुक से हटाया गया।लेकिन अब कोई फायदा नहीं था क्योंकि वह अब जिंदा नहीं रहा था।जिसे अब लोहे के हुक से उतारा गया वह मात्र एक डेड बॉडी थी।इधर, अब ट्रेन चलाने वालों और अन्य रेल के मेम्बरों को यह समझ नहीं आ रहा था कि यह शख्स कौन है औऱ ट्रेन के इंजन के नीचे आने की बात अलग है लेकिन यह इंजन के बोनट पर लगे हुक पर कैसे फंस गया।यह वहां क्या कर रहा था।या तो ये उसपर चढ़ रहा होगा या तो बैठ रहा होगा या फिर बिल्कुल पास से निकल रहा होगा और फंस गया होगा।
फिलहाल, जांच-पड़ताल की गई तो पता चला कि शख्स का नाम 43 वर्षीय अंजार आलम है और परिजनों के मुताबिक उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी।जहां इसी के चलते वह इंजन के समीप जा पहुंचा और उसमे फंस गया।अब जरा आप तस्वीरें देखें जो कि बेहद विचलित कर देने वाली हैं।बेहद दर्दनाक हैं।इसलिए दधुंधले रूप में आप इन तस्वीरों को देखिए।

Thursday, October 8, 2020

October 08, 2020

‘जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं ‘: मोदी

'जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं ': मोदी

नयी दिल्ली, 08 अक्टूम्बर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आने वाले दिनों में त्योहारों, सर्दी के मौसम और अर्थव्यवस्था की स्थिति के मद्देनजर वैश्विक महामारी कोविड-19 के खिलाफ बचाव को लेकर गुरुवार एक 'जन आंदोलन 'की शुरुआत करते हुए 'जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं ' का नारा दिया।
मोदी ने आज ट्वीट कर कहा, "आइए, कोरोना से लड़ने के लिए एकजुट हों! हमेशा याद रखें: मास्क जरूर पहनें। हाथ साफ करते रहें। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। दो गज की दूरी रखें।" उन्होंने लिखा ," जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं।"
प्रधानमंत्री ने एक और ट्वीट में लिखा, " देश में कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई लोगों के जरिए लड़ी जा रही है और हमारे कोरोना योद्धाओं को इससे बहुत ताकत मिलती है।
हमारे सामूहिक प्रयासों से कई लोगों की जान बचाने में मदद मिली है। हमें यह लड़ाई निरंतर जारी रखनी होगी और अपने नागरिकों को वायरस से बचाना होगा।"
इससे पहले केंद्रीय मंत्री सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को कहा था कि कोरोना से बचाव का हथियार मास्क पहनना, सामाजिक दूरी का पालन करना और बार-बार हाथ धोना है।
इसी सिद्धांत का पालन करते हुए सार्वजनिक स्थानों पर इन उपायों के बारे में जागरुकता बढ़ाने का अभियान शुरू किया जाएगा।

Friday, September 25, 2020

September 25, 2020

देशभर में किसान करने चले चक्का जाम, पंजाब में रेल रोको अभियान को देखते हुए यहां से गुजरने वालीं ट्रेनों को रद्द या डायवर्ट किया गया

देशभर में किसान करने चले चक्का जाम, पंजाब में रेल रोको अभियान को देखते हुए यहां से गुजरने वालीं ट्रेनों को रद्द या डायवर्ट किया गया

नई दिल्ली: केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर के किसानों ने हल्ला बोल दिया है।किसान सड़क पर उतर आए हैं और केन्द्र सरकार के इन नए कानूनों का जोरदार तरीके से विरोध कर रहे हैं।वहीं, किसानों का यह विरोध अब एक बड़े स्तर तक जा पहुंचा है।दरअसल, देश के किसानों ने सरकार को अपने रोष का भयंकर रूप दिखाने के लिए देशभर में आज चक्का जाम की स्थिति पैदा करने का एलान कर दिया है।चक्का जाम करने में भारतीय किसान यूनियन समेत कुल 31 संगठन मुख्य रूप से भाग ले रहे हैं।इसके अलावा विपक्ष भी इनके साथ शामिल है।विपक्ष की कई पार्टियां किसानों का साथ देने उतरी हुई हैं।

पंजाब-हरियाणा में सबसे ज्यादा देखा जा रहा है विरोध…

नए कृषि कानूनों का वैसे तो हर जगह के किसान विरोध कर रहे हैं लेकिन सबसे ज्यादा विरोधाभास पंजाब और हरियाणा में देखने को मिल रहा है।यहां के किसान नए कृषि कानूनों को लेकर दमभर आवाज उठा रहे हैं।पंजाब में तो आलम यह है कि यहां नए कृषि कानूनों का विरोध जताते हुए अकाली दल कोटे से मोदी कैबिनेट में ही मंत्री रहीं हरसिमरत कौर बादल तो अपने पद से इस्तीफा तक दे चुकी हैं।इसके साथ आपको आश्चर्य होगा कि दिग्गज मशहूर पंजाबी सिंगर्स भी किसानों का साथ पुरजोर तरीके से दे रहे हैं।सिंगर्स किसानों के लिए सड़क पर उतरे हुए हैं।वहीं, पंजाब में तीन दिवसीय रेल रोको अभियान की गुरुवार से शुरुआत हो गई है।किसान रेलवे ट्रैक पर डटकर नए कृषि कानूनों के खिलाफ हुंकार भर रहे हैं।यहां के किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी के महासचिव का कहना है कि सरकार के हमसे बातचीत न करने का मतलब इस आंदोलन को महत्व न देने से लगता है।ऐसे आंदोलन लंबा चलेगा।

पंजाब से गुजरने वाली कई ट्रेनें रद्द की गईं…

पंजाब में रेल रोको अभियान को देखते हुए पंजाब जाने वाली एवं वहां से होकर गुजरने वाली कई ट्रेनों को रद्द किया गया है।इसके अलावा कई ट्रेनों के मार्ग में परिवर्तन किया गया है।
पंजाब सरकार बोल रही है हमला…
पंजाब सरकार तो कृषि बिल को लेकर जबरदस्त हमला बोल रही है।मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि किसान विरोधी बिल से उद्योगपतियों को फायदा है।CM कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों से अपील की है कि वे कृषि बिल के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान कोविड सुरक्षा प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करें।और हां विरोध प्रदर्शन के दौरान धारा 144 के उल्लंघन के लिए कोई FIR दर्ज नहीं की जाएगी।


क्या है किसानों की चिंता…

किसानों की असली चिंता MSP को लेकर है।कृषि मंडियों को लेकर है। उन्हें डर है कि नए बिल के प्रावधानों की वजह से कृषि क्षेत्र पूंजीपतियों और कॉर्पोरेट घरानों के हाथों में चला जाएगा।परंतु सरकार साफ-साफ कह चुकी है कि MSP और मंडी व्यवस्था पहले की तरह ही जारी रहेगी।
चौकसी बढ़ी…
किसानों के रोष को देखते हुए देश के हर राज्यों में पुलिस सतर्क है।चौकस हो गई है।भारी मात्रा में पुलिस सड़कों पर तैनात है।

Sunday, September 20, 2020

September 20, 2020

कृषि विधेयक पर प्रदर्शन:सड़कों पर नजर आने लगे हरियाणा के किसान, रोड जाम किए, दिल्ली-चंडीगढ़ को छोड़कर सभी हाईवे हुए जाम

कृषि विधेयक पर प्रदर्शन:सड़कों पर नजर आने लगे हरियाणा के किसान, रोड जाम किए, दिल्ली-चंडीगढ़ को छोड़कर सभी हाईवे हुए जाम

हरियाणा में किसानों के रोष प्रदर्शन के चलते तैनात पुलिस बल। प्रदेशभर में कई जगह किसानों ने जाम लगा रखे गए हैं।

किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने रविवार को भी फेसबुक पर लाइव आकर किसानों से की रोड जाम की अपील

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर की किसानों से अपील, प्रदर्शन में हिस्सा लेकर विपक्ष के मंसूबों को सफल न करें

चंडीगढ़ : केंद्र सरकार द्वारा कृषि से जुड़े तीन विधेयक लोकसभा में पास कर देने के बाद हरियाणा के किसानों ने रविवार को हाईवे जाम करने का ऐलान किया है। 12 बजे से पहले ही किसान सड़कों पर दिखने शुरू हो गए। 12 बजते ही रोड जाम करने शुरू कर दिए। यह प्रदर्शन 3 बजे तक चलेगा। प्रदेशभर में स्टेट हाईवे जाम रखे जाएंगे। सिर्फ दिल्ली से चंडीगढ़ जाने वाले जीटी रोड को जाम नहीं किया जाएगा।

 *जानें कहां कैसे हैं हालात...*

सिरसा जिले के गांव पंजुआना में नेशनल हाइवे पर प्रदर्शन करते किसान।


सिरसा: सिरसा जिले के गांव पंजुआना में नेशनल हाइवे पर किसानों का प्रदर्शन शुरू हो गया है। किसानों सैकड़ों की संख्या में हाइवे पर जमा होकर प्रदर्शन कर रहे हैं। पुलिस हालांकि मौजूद है लेकिन वह किसी किसान को प्रदर्शन करने से नहीं रोक रही है।

हिसार: हिसार में हाईवे पर प्रदर्शन शुरू हो गया है। किसान टोल प्लाजा पर इकट्ठा हो गए हैं। बड़ी संख्या में पुलिस टीम भी मौजूद है। किसान जगह-जगह केंद्र सरकार और राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।
जींद: जींद जिले के गांव अलेवा में किसानों व आढ़तियों ने मिलकर जींद-असंध मार्ग को जाम कर दिया। प्रशासन ने किसानों से जाम नहीं लगाने का आह्वान किया, लेकिन किसानों ने अधिकारियों की बात को नहीं सुना और मार्ग के बीच में बैठ गए।

फतेहाबाद: फतेहाबाद में टोहाना खंड के गांव कन्हेड़ी व समैन में बस स्टैंड पर किसानों ने जाम लगाया। टोहाना बस डिपो ने हिसार जाने वाली सभी बस सेवाओं को रोक दिया गया है। सुबह रोहतक के लिए निकली बस जींद से वापस आई। वहीं, भिवानी में कृषि विधेयकों के खिलाफ किसान मुंढाल पार्क में एकत्र हो रहे हैं।

Sunday, September 13, 2020

September 13, 2020

जेईई मेन्स की परीक्षा में सोनीपत के छोरे का कमाल, ऑल इंडिया की जनरल कैटेगरी में छठा रैंक

जेईई मेन्स की परीक्षा में सोनीपत के छोरे का कमाल, ऑल इंडिया की जनरल कैटेगरी में छठा रैंक

सोनीपत : जेईई मेन्स की परीक्षा में सोनीपत के हर्षवर्धन अग्रवाल ने प्रदेश का नाम रोशन किया है। हर्षवर्धन ने ऑल इंडिया की जनरल कैटेगरी में 100 प्रर्सेंटाइल प्राप्त कर छठा रैंक हासिल किया है। हर्षवर्धन की उपलब्धि पर परिवार में खुशी का माहौल है। लाडले की उपलबि पर परिजनों का बधाई देने वालों का दिन भर तांता लगा रहा। हर्षवर्धन शहर के जानकीदास स्कूल का छात्र है। वह नौवीं कक्षा से ही इंजीनियरिंग  का सपना संजोए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) मुंबई में दाखिला लेने के लिए बेहतर पढ़ाई कर रहा है। इसी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हर रोज 10-12 घंटे पढ़ाई कर रहा है।

जनवरी मास में हुई जेईई मेन की परीक्षा में हर्षवर्धन ने ऑल इंडिया में छठा रैंक प्राप्त किया है। साथ ही इसी माह के अंत में होने वाले जेईई एडवांस की परीक्षा की भी तैयारी कर रहा है, ताकि उसका आइआइटी में दाखिला हो सके। इससे पहले गत वर्ष हर्षवर्धन के बड़े भाई मदन अग्रवाल का आइआइटी में दाखिला हुआ था, उसने जेईई एडवांस में ऑल इंडिया में 14 रैंक प्राप्त किया था। हर्षवर्धन के पिता महावीर प्रसाद अग्रवाल भारतीय संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) में बतौर डीजीएम (डिप्टी जनरल मैनेजर) हैं, जो फिलहाल स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति स्कीम (वीआरएस) ले चुके हैं। इनकी माता सीमा अग्रवाल शहर के हिंदू कॉलेज में प्रोफेसर हैं। बेटे की उपलब्धि माता-पिता फूले नहीं समा रहे। उन्होंने बताया कि हर्षवर्धन शुरू से ही पढ़ाई में अव्वल रहा है।

 इससे पहले एनटीएसई स्टेज-1 में वह हरियाणा टॉपर रहा था। एनटीएसई स्टेज-2 में क्वालिफाइड इन 2017 रहा। केवीपीवाई एसए स्ट्री में 61वां रैंक हासिल किया। आरएमओ 2017, 2018 क्वालिफाइड किया। 2019 में आईएनएओ व आईएनपीएचओ क्वालिफाइड किया। यही नहीं हर्षवर्धन अग्रवाल ने इसराइल में हुए 50वें (आईंपीएचओ)ओलिंपियाड में भारत का प्रतिनिधित्व किया। पांच विद्यार्थियों की इस टीम ने उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए सिल्वर मेडल प्राप्त किया और वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बनाई। इस प्रतियोगिता में 78 देशों से 400 विद्यार्थियों ने भाग लिया था। उनकी इस उपलब्धि के लिए हरियाणा स्टेट कॉउन्सिल फॉर साइंस एंड टेक्नोलॉजी पंचकूला द्वारा 'जैन मंदिर स्कूल, सोनीपत में हुए कार्यक्रम में मुख्य अतिथि द्वारा 3 लाख नकद एवं प्रशस्ति पत्र से उसे सम्मानित किया था। विद्यालय प्रबंधन ने भी हर्षवर्धन को उसकी उपलब्धि पर बधाई दी है।
September 13, 2020

प्रेम कहानी:सहेली से शादी करने कैथल से गंगानगर पहुंच गई युवती, बोली- लड़कों से नफरत है, इसलिए अपनी सहेली के बिना नहीं रह सकती

प्रेम कहानी:सहेली से शादी करने कैथल से गंगानगर पहुंच गई युवती, बोली- लड़कों से नफरत है, इसलिए अपनी सहेली के बिना नहीं रह सकती

5 साल पहले हुई मुलाकात, सिरसा में धार्मिक स्थल पर दोनों का आना-जाना था, शादी करने 500 किलोमीटर अपने सहेली से शादी करने पहुंच गई युवती

हिसार : बॉलीवुड में प्यार की अनोखी कहानियां सुनने को मिलती रहती हैं। बड़े पर्दे के सितारों की प्रेम कहानियां भी इतनी अचरज भरी नहीं होती जैसा अनोखा दो युवतियों के बीच प्यार का मामला सामने आया है। कैथल की एक युवती को राजस्थान के गंगानगर के एक गांव की युवती से ऐसा प्यार हो गया।वह शुक्रवार को कैथल से 500 किलोमीटर दूर अपनी सहेली से शादी करने के लिए उसके गांव पहुंच गई मगर परिजनों और पुलिस के हस्तक्षेप के बाद उसे वापस लौटना पड़ा।
कैथल निवासी चंचल (काल्पनिक नाम) और गंगानगर के एक गांव निवासी आंचल ( काल्पनिक नाम) के परिवार के सदस्य सिरसा में एक धार्मिक स्थल पर आते-जाते रहते थे। इस दौरान करीब पांच वर्ष पूर्व दोनों की मुलाकात हुई। इसी दौरान इनमें करीबियां बढ़ीं। कोरोना दौर के चलते अब पिछले कुछ दिन से मुलाकात नहीं हो पा रही थी। इस दौरान वे केवल मोबाइल से ही आपस में बातचीत करती थीं।
शुक्रवार को चंचल कैथल से आंचल के घर गंगानगर पहुंच गई। आंचल के परिजनों ने पूरी खातिरदारी की। मगर जब चंचल ने आंचल को साथ ले जाने की जिद शुरू की तो आंचल के परिजनों को पूरा माजरा समझ में आया और वहां पर बहस शुरू हो गई। इसके बाद चंचल घर से बाहर आकर एक गांव के सार्वजनिक स्थल पर बैठ गई थी।

रिश्ता करवाने को राजी नहीं हो रही युवती

चंचल के परिजनों ने बताया कि वे उसके रिश्ते का काफी प्रयास कर रहे हैं, मगर ये रिश्ता नहीं करवा रही है। परिजनों ने बताया कि उसे बस से वापस भेज दो। घड़साना थाना के हवलदार लक्ष्मण सिंह ने बताया कि कैथल वाली लड़की का कहना था कि वह गंगानगर के उक्त गांव वाली लड़की से बहुत ज्यादा प्यार करती है और वह उसके बिना नहीं रह सकती। युवती ने बताया कि वह लड़कों से काफी नफरत करती है। पुलिस ने बताया कि उन्होंने कैथल की लड़की को समझा-बुझाकर हिसार वाली बस में बिठा दिया था, ताकि वह वापस परिजनों के पास पहुंच सके। दोनों से किसी के परिजनों ने थाने में शिकायत नहीं दी है।

Saturday, September 12, 2020

September 12, 2020

सातरोड कलां के यार्ड में हादसा:क्रेन का हुक टूटने से आयरन कोइल गिरी, मालगाड़ी का डिब्बा पलटा

सातरोड कलां के यार्ड में हादसा:क्रेन का हुक टूटने से आयरन कोइल गिरी, मालगाड़ी का डिब्बा पलटा

सातरोड कलां रेलवे स्टेशन के यार्ड में जिंदल साइट में शुक्रवार को सुबह आयरन कोइल उतारते समय मालगाड़ी का एक डिब्बा रेलवे ट्रैक किनारे पलट गया। सूचना पाते ही रेलवे अधिकारी पहुंचे। तकनीकी दल की सहायता से करीब तीन घंटे में डिब्बे को सीधा किया गया। डीआरएम व अन्य अधिकारियों ने भी हादसे के बारे में जानकारी हासिल की।

बीकानेर से मालगाड़ी सातरोड कलां रेलवे स्टेशन के यार्ड में पहुंची। शुक्रवार सुबह करीब 8:15 बजे यार्ड के पास मालगाड़ी के डिब्बे से क्रेन की मदद से हिसार जिंदल कम्पनी के लिए आयरन कोइल उतारे जा रहे थे। इसी बीच क्रेन का हुक टूटने से कोइल मालगाड़ी के एक डिब्बे के किनारे जा गिरी। जिसके कारण डिब्बा रेलवे ट्रैक के बराबर में पलट गया।

गनीमत रही कि उस समय कोई कर्मचारी नहीं था। सुबह करीब 8:40 बजे रेलवे अधिकारियों के अलावा आरपीएफ थाना प्रभारी बीरबल कुमार मौके पर पहुंचे। मामले की सूचना विभागीय अधिकारियों को दी गई। क्रेन की मदद से करीब 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद डिब्बे को पटरी पर चढ़ाया गया। सातरोड कला रेलवे स्टेशन प्रभारी मनोज कुमार का कहना है कि सूचना पाते ही टीम पहुंच गई थी। कुछ देर बाद ही डिब्बे को सीधा कर दिया गया।

सहायक ऑपरेटिंग मैनेजर ने हिसार रेलवे स्टेशन का लिया जायजा

सहायक ऑपरेटिंग मैनेजर ने शुक्रवार को हिसार रेलवे स्टेशन का जायजा लिया। रेलवे ट्रैक के अलावा केबिन, प्लेटफार्म आदि का भी जायजा लिया। स्टेशन अधीक्षक केएल चौधरी व आरपीएफ थाना प्रभारी बीरबल कुमार भी मौजूद रहे।