Breaking

Showing posts with label National News. Show all posts
Showing posts with label National News. Show all posts

Saturday, January 23, 2021

January 23, 2021

हरियाणा में गरीबों को मिलेंगे सस्ते घर, जानिये क्या है योजना ?

हरियाणा में गरीबों को मिलेंगे सस्ते घर, जानिये क्या है योजना ?

चंडीगढ़ : हरियाणा में अब गरीबों को सस्ते फ्लैट देने की योजना सरकार की तरफ से बनाई जा रही है। इसके लिए अब मुख्यमंत्री खुद जानकारी जुटा रहे हैं। राज्य के शहरी इलाकों में स्लम बस्तियों में रहने वालों को सस्ते फ्लैट्स देने के लिए योजना तैयार की जा रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वर्ष 2022 तक 'सब के लिए आवास' के विजऩ को आगे बढ़ाते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राज्य में शहरी क्षेत्र में स्लम बस्तियों में रहने वाले लोगों को सस्ते आवासीय फ्लैट प्रदान करने की एक व्यापक योजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं। शुरुआत में फरीदाबाद और गुरुग्राम में इस योजना को प्रारंभ करने का प्रस्ताव है।

मुख्यमंत्री आज यहां 'हाउसिंग फॉर ऑल' के संबंध में आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाद में इस योजना को राज्य के अन्य बड़े शहरों में भी शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य शहरी क्षेत्रों में स्लम क्षेत्र में रहने वाले लोगों को सस्ती आवास सुविधाएँ प्रदान करना है।
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि पुनर्वास योजना 'हाउसिंग फॉर ऑल' विभाग द्वारा तैयार की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत यह सुनिश्चित किया जाएगा कि फ्लैटों के निर्माण के लिए स्थल शहर के भीतर स्थित हो और झुग्गी-झोपड़ी वालों को उनकी सहमति से आवासीय फ्लैटों में स्थानांतरित किया जाए। उन्होंने कहा कि राज्य में बड़ी संख्या में झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोग हैं, जो निर्मित आवास इकाइयों में रहने के लिए तैयार हैं।

मनोहर लाल ने विभागों, जिनके पास जमीनें हैं, उनको इस योजना के लिए संभावित लाभार्थियों की संख्या और क्षेत्र का आंकलन करने के लिए सर्वे करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि योजना के तहत बनाए जाने वाले फ्लैटों को झुग्गीवासियों को सस्ती कीमतों पर दिया जाएगा, जिसका उनके द्वारा किश्तों में भुगतान किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बैंकों के माध्यम से भी ऋण की व्यवस्था कर सकती है ताकि लाभार्थियों द्वारा भुगतान को आसान बनाया जा सके।

बैठक में मुख्य सचिव श्री विजय वर्धन, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डी. एस. ढेसी, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल, आवास विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री टी.सी. गुप्ता, शहरी स्थानीय निकाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री एस.एन. रॉय, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री वी. उमाशंकर, विकास एवं पंचायत विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री सुधीर राजपाल, नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग के प्रधान सचिव श्री ए. के. सिंह, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव श्री अमित अग्रवाल, मुख्यमंत्री की उप-प्रधान सचिव श्रीमती आशिमा बराड़, हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं अवसंरचना विकास निगम के प्रबंध निदेशक श्री अनुराग अग्रवाल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
January 23, 2021

11वें दौर की बैठक भी बेनतीजा, कानून रद्द नहीं हो सकते, प्रस्ताव मंजूर है तो बताओ

11वें दौर की बैठक भी बेनतीजा, कानून रद्द नहीं हो सकते, प्रस्ताव मंजूर है तो बताओ

नई दिल्ली : नए कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आज सरकार और आंदोलनरत किसानों के बीच 11वें दौर की बैठक हुई जो कि पहले की 10 बैठकों जैसी बेनतीजा रही । कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कानून रद्द नहीं किये जा सकते यह बात साफ है। हाँ ये जरूर है कि कानूनों के लागू होने पर एक निश्चित समय के लिए हम रोक लगा सकते हैं जैसा कि हमने पहले प्रस्ताव रखा है। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि जो प्रस्ताव दिया गया है वह किसानों के हित के लिए है । इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता। इससे बेहतर प्रस्ताव सरकार नहीं दे सकती। अगर आप (आंदोलनरत किसानों) का विचार बने तो एक बार इसपर सोच लीजिए। नरेंद्र तोमर ने किसानों से कहा कि अगर उनकी इस बारे में सलाह बन जाये तो यह बातचीत दोबारा फिर हो सकती है। बतादें कि बैठक की अगली तारीख तय नहीं की गई है। कृषि मंत्री ने आज की बातचीत के लिए किसानों का धन्यवाद किया है।
January 23, 2021

किसान आंदोलन में खूनी खेल की साजिश, किसानों को गोलियों से छलनी करने का बना रखा था प्लान

किसान आंदोलन में खूनी खेल की साजिश, किसानों को गोलियों से छलनी करने का बना रखा था प्लान

नई दिल्ली : नए कृषि कानूनों पर छिड़े किसानों के आंदोलन के बीच से एक बड़ी और बेहद सनसनीखेज खबर सामने आई है।बीती रात दिल्ली सिंघु बॉर्डर पर संदिग्धता के आधार पर काले कपड़े और सफेद नकाब पहने एक शख्स को पकड़ा गया है। वहीँ पकड़े जाने के बाद शख्स ने जो खुलासा किया है उससे चिंताजनक माहौल पैदा हो गया है।

दरअसल, पकड़े गए शख्स ने अपनी नापाक साजिश को अंजाम देने को लेकर खुलासा किया है। शख्स ने प्रेस के सामने बताया है कि वह अकेला नहीं है उसके साथ एक टीम है जो कि किसान आंदोलन में खूनी खेल की साजिश को अंजाम देने की प्लानिंग में थी| शख्स ने बताया कि 26 जनवरी को निकलने वाली ट्रैक्टर रैली के दौरान अफरातफरी मचाने की पूरी कोशिश थी और इसके अलावा मंच पर चार किसान नेताओं को गोली मारने के लिए उससे कहा गया था जिनकी फोटो उसे दी गई थी। शख्स ने ये भी बताया कि ये सब करवाने की साजिश राइ थाने के एसएचओ प्रदीप की है, जोकि हमेशा अपना चेहरा ढके रहता है।

फ़िलहाल दिल्ली पुलिस की टीम शख्स से पूछताछ कर रही है। शख्स से हरियाणा के सोनीपत में रहने की जानकारी सामने आई है। नाम योगेश बताया गया, जोकि 9 वीं कक्षा तक पढ़ा है।

Friday, January 22, 2021

January 22, 2021

किसान आंदोलन में अंग्रेजों के जमाने की कार की एंट्री, कार में है बुलेट के टायर

किसान आंदोलन में अंग्रेजों के जमाने की कार की एंट्री, कार में है बुलेट के टायर

नई दिल्ली : कृषि कानूनों को लेकर सरकार और किसानों के बीच बैठकों का दौर जारी है लेकिन अभी तक कोई हल निकलता दिखाई नहीं दे रहा है। तमाम परेशानियों का सामना करते हुए किसान अपनी मांगों को लेकर डटे हुए हैं। किसानों के इरादे साफ हैं कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होती वो अपने घर नहीं लौटेंगे। इसी बीच किसान आंदोलन के दौरान कई बेहद दिलचस्प चीजें भी देखने को मिल रही हैं। कभी किसानों के इस आंदोलन में कार में हुक्के लगे दिख रहे हैं तो अब अंग्रजों के जमाने की कार की भी एंट्री इस आंदोलन में हो गई है। जिसे एक युवा किसान पंजाब के मोगा से लेकर पहुंचा। लोग इस कार को देख काफी आकर्षित हो रहे हैं।

*कार की खास बात*

युवा किसान गगनदीप सिंह ने अपनी इस कार के बारे में जानकारी दी और बताया की करीब साढे पांच लाख रुपये देकर के उन्होंने इस कार को तैयार करवाया है ये उनके दादा जी ने खरीदी थी और अब उन्होंने इसमें सुधार किया है। उन्होंने बताया कि वो इस कार के साथ 26 जनवरी को परेड में हिस्सा लेगें। ये कार बुलेट के टायरों पर चल रही है।गगनदीप के मुताबिक उनके दादा जी ने इसे 1926 में जर्मनी से इम्पोर्ट करवाया था तब ये मिट्टी के तेल से चलती थी और अब उन्होंने इसके इंजन को मॉडीफाई किया व डीजल के साथ चलने लायक बनाया है।



लोग इस कार को देखने के बाद इसके साथ सेल्फी ले रहे हैं हर कोई इसमें बैठकर सवार होना चाहता है। लोगों को ये कार काफी आकर्षित कर रही है। गगनदीप ने कहा कि कृषि कानूनों को वापिस नहीं लिया जा रहा है जिससे किसानों में नाराजगी है और वो 26 जनवरी की परेड में अपनी विंटेज कार के साथ शामिल होंगे।

उन्होंने कहा कि वो अपने नेताओं के फैसले का सम्मान करते हुए वो जो भी कहेंगे वो ही कहेंगे। फिलहाल कई बैठकों के बावजूद भी कोई समाधान नहीं निकला है और वे अपनी मांगों को लेकर डटे हुए हैं।

वहीं आप को बता दें कि किसानों के इस आंदोलन के दौरान कई बार ऐसी चीजे देखने को मिली हैं जो कहीं और देखने को नहीं मिल सकती। हाल ही में एक बुजुर्ग की कार में हुक्के भी लगे देखे गए थे जिसे देखकर लोग हैरान हो रहे थे।
January 22, 2021

बिना आधार कार्ड मिलेगी LPG गैस सिलेंडर पर सब्सिडी, यह है तरीका

बिना आधार कार्ड मिलेगी LPG गैस सिलेंडर पर सब्सिडी, यह है तरीका

नई दिल्ली : सरकार रसोई गैस सिलेंडर की बुकिंग करने पर सब्सिडी सीधे ग्राहक के बैंक खाते में भेजती है। वैसे तो सब्सिडी का लाभ पाने के लिए आपको अपने गैस कनेक्शन के साथ आधार कार्ड को भी लिंक करना बेहद जरूरी है। अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं है या फिर किसी कारण ग्राहक आपने आधार कार्ड को बैंक या LPG कनेक्शन के साथ लिंक नहीं किया है तो भी आपको गैस सब्सिडी के लिए थोड़ी मसक्क्त करनी पड़ेगी।

सब्सिडी का फायदा लेने के लिए करना होगा ये काम

>> गैस सब्सिडी पाने के लिए ग्राहक को अपनी गैस एजेंसी में जाकर LPG डिस्ट्रीब्यूटर को बैंक खाता नंबर देना होगा।
>> जिसके बाद ग्राहक की सब्सिडी राशि सीधे उसके बैंक खाते में जमा हो जाएगी।
>> बैंक खाते की जानकारी के साथ ही खाताधारक का नाम, बैंक खाता संख्या और बैंक की ब्रांच का IFSC कोड और 17 अंकों की एलपीजी कंज्यूमर आईडी देना होगा।
>> लेकिन बता दें कि यह सुविधा उन ग्राहकों के लिए दी गई है, जिनके पास आधार कार्ड नहीं है।

ऐसे करें आधार को गैस कनेक्शन से लिंक–


1. ऑनलाइन तरीके से लिंक करना
>> ऑनलाइन मोड में लिंक करने के लिए अपने मोबाइल नंबर को इंडेन गैस कनेक्शन से रजिस्टर करायें।
>> इसके बाद आधार की आधिकारिक वेबसाइट पर जायें।
>> इसके बाद आप यहां सभी जरूरी जानकारी भरें।
>> इसमें आपको बेनिफिट टाइप में एलपीजी, स्कीम का नाम, वितरक का नाम और ग्राहक संख्या डालें।
>> अब आधार नंबर डालने से पहले आपको मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी लिखना होगा।
>> इसके बाद सबमिट बटन पर क्लिक करें।
>> इसके बाद आपके मोबाइल, ईमेल पर एक ओटीपी आएगा।
>> आपको वन टाइम पासवर्ड डालकर सबमिट बटन पर क्लिक कर दें।
2. कस्टमर केयर में फोन कर गैस आधार को लिंक करना
>> इंडेन के ग्राहक एक कस्टमर केयर नंबर पर फोन कर भी अपने गैस कनेक्शन को आधार से लिंक करा सकते हैं।
>> इसके लिए आपको गैस कनेक्शन में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 1800 2333 555 पर कॉल करना होगा।
>> इसके बाद आप चाहें तो प्रतिनिधि को अपना आधार नंबर बताएं और अपने गैस कनेक्शन से उसे लिंक करा दें।
एलपीजी के दाम में 50 रुपये की वृद्धि के बाद बिना सब्सिडी वाले 14.2 किलोग्राम के एलपीजी सिलेंडर  की कीमत 644 रुपये से बढ़कर 694 रुपये हो गई है। इस सिलेंडर की कीमतों में यह दूसरी बार बढ़ोतरी है।

Monday, January 18, 2021

January 18, 2021

किसानों की ट्रैक्टर रैली पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- - प्रवेश कैसे-कौन करेगा या नहीं करेगा, ये पुलिस तय करे

किसानों की ट्रैक्टर रैली पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा-- प्रवेश कैसे-कौन करेगा या नहीं करेगा, ये पुलिस तय करे

नई दिल्ली, 18 जनवरी। नए कृषि कानूनों पर किसानों का आंदोलन विस्तार रूप लेता जा रहा है। जहां इन कानूनों पर किसानों की सरकार से बातचीत चल रही है, वहीं यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी पहुंचा हुआ है| इधर अब किसान आंदोलन के जत्थे ने 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में विशाल ट्रैक्टर रैली निकालने की घोषणा की हुई है। जिस पर दिल्ली पुलिस ने ऐतराज जताया है और वह ट्रैक्टर रैली पर अवरोध लगवाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट के दर पर पहुंच गई है। दरअसल, दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल अपनी याचिका में किसानों के 26 जनवरी को होने वाले ट्रैक्टर मार्च पर रोक लगाने की मांग की है। दिल्ली पुलिस ने इसके लिए कानून-व्यवस्था का हवाला दिया है।
वहीँ, सुप्रीम कोर्ट ने आज सोमवार को इस मामले पर थोड़ी देर की सुनवाई की है। सुप्रीम कोर्ट ने इस सुनवाई के दौरान कहा कि दिल्ली में प्रवेश का सवाल कानून-व्यवस्था का विषय है और दिल्ली में कौन आएगा या नहीं, कौन मार्च करेगा या धरना देगा। इसे दिल्ली पुलिस को तय करना है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रशासन को क्या करना है और क्या नहीं करना है, यह कोर्ट नहीं तय करेगा। इधर केंद्र सरकार की ओर से पेश अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने इस दौरान कहा कि किसानों की ट्रैक्टर रैली अवैध होगी और इस दौरान दिल्ली में 5000 लोगों के प्रवेश की संभावना है।फिलहाल किसानों के ट्रैक्टर मार्च को लेकर सुप्रीम कोर्ट 20 जनवरी को अगली सुनवाई करेगा।

किसान ट्रैक्टर मार्च निकालने पर अड़े…

आंदोलनकारी किसानों का कहना है कि ट्रैक्टर मार्च निकलेगा और जरूर निकलेगा। यह अब रुक नहीं सकता। 26 जनवरी को हम दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च करेंगे। ज्ञात रहे कि सुप्रीम कोर्ट ने 4 सदस्यों की एक कमेटी भी बनाई हुई है जो कि आंदोलनकारी किसानों से मसले के हल को लेकर बातचीत करेगी, लेकिन किसान इस कमेटी के विरोध में हैं और वह कमेटी से बातचीत नहीं करना चाहते। वहीं, कमेटी के सदस्य भूपिंदर सिंह मान ने खुद को कमेटी से अलग कर लिया है।
January 18, 2021

हरियाणा सहित इन राज्यों में चेतावनी जारी, कड़ाके की ठंड के बीच बारिश के आसार

हरियाणा सहित इन राज्यों में चेतावनी जारी, कड़ाके की ठंड के बीच बारिश के आसार

नई दिल्ली : उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड और घने कोहरे का दौर जारी है। इसी बीच मौसम विभाग ने उत्त भारत में बारिश को लेकर चेतावनी जारी कर दी है। देश की राजधानी दिल्ली के साथ साथ हरियाणा में कोहरे के बीच बारिश का अलर्ट किया गया है। आज सुबह सोमवार को दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम जैसे शहरों में बारिश अगले दो से तीन घंटे के अंदर हो सकती है। आज सुबह उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान में 3 से 4 डिग्री सेल्सियस बढ़ने का अनुमान है। उत्तर भारत में शीत लहर और ठंड का दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के लोग सामना कर रहे हैं। 

पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में भयंकर शीतलहर के असर में आने वाले दिनों में कमी देखने को मिलेगी। मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के एक अधिकारी ने बताया कि हरियाणा के नारनौल में न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम 1.8 डिग्री है। वहीं हिसार हिमाचल से ज्यादा ठंडा रहा है। वहीं झारखंड के लोगों को अगले 4 दिनों के बाद ठंड से राहत मिलेगी। मौसम विभाग के मुताबिक, 18-19 जनवरी के बाद न्यूनतम तापमान तीन डिग्री की बढ़ोतरी होने की संभावना है।

दिल्ली में आज भी घना कोहरा छाया हुआ है। मौसम विभाग के मुताबिक, इस वक्त न्यूनतम तापमान 11.2 डिग्री सेल्सियस है। दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर कोहरे की चादर दिख रही है। दिल्ली सहित पूरे उत्तर भारत को जल्द ही कंपकंपाती ठंड से राहत मिलेगी। लेकिन जम्मू में 22 जनवरी के बाद बर्फबारी के आसार हैं। दिल्ली में रविवार की सुबह घने कोहरे से साथ शुरू हुई। इसका असर रेल और हवाई सेवाओं पर दिखा। मौसम विभाग के मुताबिक, 21 जनवरी तक कोहरा सताएगा, हालांकि तापमान बढ़ने से लोगों को सर्दी से राहत मिल सकती है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से पाकिस्तान के मध्य भागों पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बन रहा है। यह दोनों मौसमी सिस्टम उत्तर भारत के पहाड़ों पर असर डालेंगे। जिससे मौसम में बदलाव आएगा। स्काईमेट की रिपोर्ट के मुताबिक, 7-8 जनवरी के बाद से समूचे उत्तर भारत में मौसम साफ और शुष्क बना हुआ है। शुष्क मौसम के कारण ही उत्तर पश्चिमी बर्फीली हवाएं निरंतर चल रही हैं। जिससे लोग शीतलहर के प्रकोप का सामना कर रहे हैं। 

मौसम विभाग ने कहा है कि उत्तर भारत में एक बार फिर से मौसम करवट बदलने जा रहा है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने जानकारी देते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर, हिमाचल और उत्तराखंड में बर्फबारी से मैदानी इलाकों में ठंड का सितम जारी है। अगले कुछ दिनों में पहाड़ी राज्यों में रात का तापमान 5 डिग्री से नीचे हो चला है। ऐसे में घना कोहरा छाने की उम्मीद है।