Breaking

Showing posts with label HIsar News. Show all posts
Showing posts with label HIsar News. Show all posts

Sunday, October 18, 2020

October 18, 2020

सुविधा:हिसार एयरपाेर्ट पर हाे सकेगी नाइट लैंडिंग, सेकंड फेज के काम में 20 कराेड़ की लागत से लगेंगी कैट टू लाइटें

सुविधा:हिसार एयरपाेर्ट पर हाे सकेगी नाइट लैंडिंग, सेकंड फेज के काम में 20 कराेड़ की लागत से लगेंगी कैट टू लाइटें

हिसार : एयरपोर्ट पर नाइट लैंडिंग भी हाे सकेगी। सेकंड फेज का काम शुरू हाेने के साथ ही इस प्रोजेक्ट काे लेकर 20 कराेड़ रुपये की एडमिनिस्ट्रेटिव अप्रूवल मिल गई है। जल्द 20 कराेड़ रुपए की लगात से एयरपाेर्ट के रनवे पर लगाए जाने वाली कैट टू लाइटें लगाने का काम शुरू हाेगा। इसकाे लेकर बीएंडआर जल्द ही टेंडर लगाएगा। डीएनआईटी यानी डिटेल नाेटिस इनवाइट टेंडर तैयार किया जा चुका है। केवल चीफ इंजीनियर व ईआईसी की अप्रूवल बाकी है। दाेनाें उच्च अधिकारियाें की अप्रूवल मिलते ही टेंडर लगा दिया जाएगा।

लगाया जाता है कैट 2 आईएलएस सिस्टम

नाइट लैंडिंग के लिए एयरपोर्ट के रनवे के साथ साथ कैट-2 इंस्ट्रूमेंट लैंडिंग सिस्टम (आईएलएस) लगाया जाता है। इससे रात में विजिबिलिटी बढ़ जाती है। रनवे ग्राउंड पर ये लाइट्स लगाने से रात में हवाई जहाज उतारने में दिक्कत नहीं आती। इसके बाद मिड लाइट में भी ऑपरेशन के लिए एयरपोर्ट खुला रहता है।

दाे साल पहले किया था एस्टीमेट तैयार

एयरपोर्ट ऑथोरिटी के अधिकारियाें ने नाइट लैंंडिंग के लिए पहले भी एस्टीमेट तैयार कराया था। करीब 2 साल पहले एयरपोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया के अधिकारियों के साथ टेक्निकल विंग के अधिकारियाें की मीटिंग दिल्ली में हुई। एयरपोर्ट ऑथोरिटी ने बीएंडआर को रफ एस्टीमेट भेजा गया था। यह एस्टीमेट करीब 15 करोड़ रुपए का था। इसमें नाइट लैंडिंग संबंधित रनवे पर लगने वाली स्पेशल लाइटें लगाने का काम था। बीएंडआर को कहा गया था कि रेट वेरिफाई करवाकर इसकी रिपोर्ट भेजी जाए और फिर टेंडर लगाया जाए।

जल्द लगाएंगे टेंडर

नाइट लैंडिंग काे लेकर रवने के साथ-साथ लगने वाली कैट टू लाइटें लगाने के लिए करीब 20 कराेड़ रुपए की एडमिनिस्ट्रेटिव अप्रूवल मिल चुकी है। डीएनआईटी भेजी हुई है, टेक्निकल अप्रूवल मिलते ही जल्द टेंडर लगाया जाएगा। -सुमेर सिंह, एसडीओ बीएंडआर इलेक्ट्रिक विंग।
October 18, 2020

काेराेना का खाैफ:अस्थियां विसर्जित करने से भी हिचक रहे लाेग, संगठन आ रहे आगे

काेराेना का खाैफ:अस्थियां विसर्जित करने से भी हिचक रहे लाेग, संगठन आ रहे आगे

हिसार : इसे लाेगाें के अंदर काेराेना का खाैफ ही कहा जाएगा कि लाेग अब अपनाें का अंंतिम संस्कार करने से भी हिचक रहे हैं। यही नहीं अंतिम संस्कार करने के बाद अस्थियां विसर्जित करने काे भी आगे नहीं आ रहे हैं। काेराेना संक्रमित कुछ मृतकाें की सामाजिक संगठनाें के लाेगाें ने हरिद्वार जाकर अस्थियां विसर्जित कीं। नगर निगम ओर नगर पालिका के कर्मचारी भी काेराेना संक्रमित का अंतिम संस्कार करने में अहम भूमिका निभा रहे हैं।

ऐसे कई मामले हैं जब अंतिम समय में अपने नहीं आए

केस-1 हिसार में 10 दिन पूर्व ही काेराेना संक्रमित एक वृद्ध की माैत हाे गई। माैत के बाद शव काे हिसार के ऋषि नगर श्मशान घाट मे ले जाया गया। बताया गया कि काेराेना के डर से परिजन अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हुए। परमिशन लेने के बाद नगर पालिका कर्मचारी संघ इकाई हिसार के कर्मचारियाें ने शव का अंतिम संस्कार किया।
केस-2 हिसार के श्मशान घाट में दाे काेराेना संक्रमिताें की अस्थियां पिछले कई दिन से रखीं थीं। परिजनाें ने अस्थियां विसर्जित करना मुनासिब नहीं समझा। जिस पर सामाजिक संगठन से जुड़े लाेगाेंं ने अन्य लाेगाें की अस्थियाें के साथ ही काेराेना संक्रमिताें की अस्थियां भी हरिद्वार में जाकर विसर्जित कीं।

डरें नहीं-मुखाग्नि के बाद संक्रमण का खतरा नहीं

हिसार के रेलवे अस्पताल के प्रभारी डॉ. धीरज कुमार का कहना है कि लोगों को अस्थियां विसर्जित करने से नहीं हिचकना चाहिए। शव को मुखाग्नि के बाद अंदर के कीटाणु पूरी तरह से खत्म हो जाते हैं। वैसे भी कोरोना 50 डिग्री सेंटीग्रेट से नीचे के तापमान वाले शरीर में होने की संभावना होती है। जबकि मुखाग्नि में कही ज्यादा तापमान होता है। शरीर के साथ संक्रमण भी खत्म हो जाता है। जिसके कारण अस्थियां में कोरोना का सवाल ही पैदा नहीं होता है। इस डरें बिना अपनों की अंतिम क्रिया संपन्न कराएं।

Saturday, October 17, 2020

October 17, 2020

पॉवर कट:सेक्टर 14 और ऑटाे मार्केट में आज और कल बिजली बंद रहेगी

पॉवर कट:सेक्टर 14 और ऑटाे मार्केट में आज और कल बिजली बंद रहेगी

हिसार : 32 केवी बीड पावर हाउस में पावर ट्रांसफार्मर पर काम के चलते सेक्टर 14 और ऑटाे मार्केट 33 केवी लाइन शनिवार और रविवार काे सुबह 9 से शाम के 5 बजे तक सब स्टेशन पर बिजली की सप्लाई बंद रहेगी। इन सबस्टेशनाें की सप्लाई दूसरे साेर्स से चलाई जाएगी। काम के चलते सेक्टर 14, सेक्टर 33, ऋषि नगर, सत्या नगर, सिटी थाना, नागाेरी गेट, अनाज मंडी, ऑटाे मार्केट, भक्त सिंह चाैक, सिरसा राेड, आरएस काॅलाेनी, सुंदर नगर, डाेभी गेट, इंद्रप्रस्थ काॅलाेनी, तायल गार्डन, जैन गली, राजगुरु मार्केट में बिजली कट लग सकते हैं।
मेनेटेंस कार्य के चलते आज डीसी कॉलोनी और मॉडल टाउन में पावर बंद
मेंनेटेंस कार्स के कारण शनिवार काे सुबह 9 बजे से दोपहर डेढ़ बजे तक 11केवी डीसी काॅलाेनी फीडर व माॅडल टाउन 11 केवी फीडर बंद रहेंगे। सैन्ट्राे एन्कलेव, टायर एनक्लेव, राजेंद्र एन्केलव, शांत विहार, सत्या एन्केल्व, डीसी काॅलाेनी, गणेश नगर, डाबड़ा चाैक और अर्बन एस्टेट के कुछ एरिया में बिजली सप्लाई बाधित रहेगी। वही शांति नगर सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे बिजली गुल रहेगी।

Tuesday, September 22, 2020

September 22, 2020

अव्यवस्था:कोरोना काल में धूल फांक रही है रेडक्रॉस की विद्या वाहिनी, गांव जाकर बच्चों को कंप्यूटर सिखाना था जो उद्देश्य

अव्यवस्था:कोरोना काल में धूल फांक रही है रेडक्रॉस की विद्या वाहिनी, गांव जाकर बच्चों को कंप्यूटर सिखाना था जो उद्देश्य

फिलहाल आरसीआईटी में इस्तेमाल हो रहे लैपटॉप, बस जल्द शुरू होने के आसार,लगभग 20 लाख की लागत से तैयार हुई थी बस, सिखाने के लिए 20 लैपटॉप भी लगाए थे

गांव-गांव जाकर बच्चों को कंप्यूटर बेसिक ट्रेनिंग देने वाली रेडक्रॉस की विद्या वाहिनी कंप्यूटर ट्रेनिंग बस आजकल पार्किंग में धूल फांक रही है। अधिकारियों का कहना है कि कोरोना के चलते लॉकडाउन के दौरान कहीं बाहर नहीं निकली। बता दें कि बस का उद्घाटन मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने 2015 में किया था। जिसका उद्देश्य रेडक्रॉस सोसायटी का प्रचार-प्रसार और ऐसे में गांव जाकर ऐसे बच्चों को कंप्यूटर सिखाना था जोकि शहर की दूरी तय कर कंप्यूटर सीखने नहीं आ सकते।

लगभग 20 लाख की लागत से तैयार हुई थी बस, सिखाने के लिए 20 लैपटॉप भी लगाए थे

सूत्रों की मानें तो बस की कीमत 20 लाख है। जो पूरी तरह (वाताकूलित) है। साथ ही इसमें बच्चों को सिखाने के लिए 20 लैपटॉप लगाए गए हैं। और प्रशिक्षण के लिए एक बड़ी एलईडी भी लगी हुई है। साथ ही इन सुविधाओं का सुचारू रूप से चलाने के लिए बस में जनरेटर भी है। इसमें चलाए जाने वाले बेसिक कंप्यूटर कोर्स की अवधि 1 महीना है जबकि फीस 1000 रुपये है।

फिलहाल आरसीआईटी में इस्तेमाल हो रहे लैपटॉप, बस जल्द शुरू होने के आसार

रेडक्रॉस सोसायटी के सचिव रविंद्र लोहान ने कहा कि कोरोना काल में बस हो गांव-गांव नहीं ले जाया गया। साथ ही हार्डवेयर से लैस होने के कारण और ट्रेनिंग के हिसाब से सिटिंग अरेंजमेंट होने के कारण इसका कोई और इस्तेमाल करना अभी संभव नहीं था, बस में जो लैपटॉप लगाए गए थे वह रेडक्रॉस के आरसीआईटी सेंटर में इस्तेमाल किए जा रहे हैं जहां बच्चों को ऑनलाइन कंप्यूटर क्लास दी जा रही है।

Saturday, September 12, 2020

September 12, 2020

तनातनी:काठमंडी में अतिक्रमण करने और हटाने पर आपस में उलझे व्यापारी

नगर निगम टीम कार्रवाई करने पहुंची तो हुआ विवाद

काठमंडी में अतिक्रमण करने और हटाने काे लेकर व्यापारी आपस में भिड़ गए। दाेनाें ओर से समर्थक और दुकानदार आमने-सामने आ गए। करीब एक घंटे तक हंगामा चला, आराेप-प्रत्याराेप लगाए। नाैबत हाथापाई तक आ गई। बाद में कुछ लाेगाें ने शांत कराया। साै साल से ज्यादा पुरानी काठमंडी में अवैध निर्माण और अतिक्रमण की शिकायतें हैं। ऐसे में निगम टीम गुरुवार सुबह साढ़े 10 बजे काठमंडी पहुंची।

तहबाजारी टीम भी थी। टीम में भवन शाखा से बीआई सुमित ढांडा, तहबाजारी इंचार्ज सुरेंद्र वर्मा शामिल थे। टीम ने व्यापारियों से बातचीत की और उनसे प्राॅपर्टी संबंधी दस्तावेज दिखाने की बात कहीं। ऐसे में अतिक्रमण हटवाने की कार्रवाई का समर्थन करने वाले और कार्रवाई का विरोध करने वाले दाेनाें ही पक्ष आपस में उलझ गए। निगम टीम ने व्यापारियाें काे कहा कि दाे दिन तक अपने दस्तावेज लेकर निगम पहुंच जाएं।

रामधारी मल आर्य एंड संस और पड़ाेसी रामस्वरूप महावीर प्रसाद फर्म के मालिक भिड़े

काठ मंडी में रामधारी मल-राजकुमार एवं रामधारी मल एंड संस के साथ एक अन्य फर्म रामस्परूप महावीर प्रसाद फर्म का शाेरूम है। इन दाेनाें दुकानाें समेत सभी दुकानाें के आगे शामलाती चाैक है जाे नगर निगम के अधीन आता है। कभी सभी दुकानदार मिलजुल काम करते थे, लेकिन समय के साथ व्यापारियाें में गुटबाजी हाे गई। इसके बाद ताे अतिक्रमण काे हटाने व करवाने के मामले में शिकवा-शिकायत राेज नगर निगम व प्रशासन के जाने लगी। व्यापारियाें ने आपस में सीएम विंडाे भी लगा रखी है।

क्यों भिड़े व्यापारी

रामधारी मल एंड संस के संचालक राधे आर्य का कहना है कि उन्हाेंने अवैध निर्माण काे लेकर आपत्ति उठाई थी। वह अपने लाखाें की लागत से बने शेड गिराने काे तैयार है, लेकिन अवैध अतिक्रमण नहीं हाेने देंगे। शामलात चाैक पर कुछ लाेगाें ने अवैध अतिक्रमण किया हुआ है। वह कल अन्य दुकानदाराें के साथ दुकानाें की रजिस्ट्रियां लेकर नगर निगम कार्यालय जाएंगे और आयुक्त के सामने प्रस्तुत करेंगे। वहीं रामस्वरूप महावीर प्रसाद फर्म के संचालक अनिल कुमार का कहना है कि पड़ाेसी फर्म के संचालक कई सालाें से परेशान कर रहे हैं तथा राजनीतिक धाैंस दिखाकर अवैध अतिक्रमण काे स्वयं बढ़ावा दे रहे हैं। उन्हाेंने सामने बने मकान के पास भी अतिक्रमण किया हुआ है। अनिल कुमार ने कहा कि मंडी के सभी दुकानदार उनके साथ है तथा ज्यादती किसी हालत में बर्दाश्त नहीं करेंगे। यदि उनका अतिक्रमण है ताे वह स्वयं हटा देंगे।

Friday, September 11, 2020

September 11, 2020

वर्ल्ड सुसाइड प्रीवेंशन डे:आपका किसी के साथ बिताया एक मिनट सुसाइड के विचार को रोक सकता है

वर्ल्ड सुसाइड प्रीवेंशन डे:आपका किसी के साथ बिताया एक मिनट सुसाइड के विचार को रोक सकता है

हिसार : सिविल अस्पताल में वर्ल्ड सुसाइड प्रीवेंशन डे पर लगाए शिविर में डॉ. पूनम दहिया और डॉ. शालू ढांडा लोगों की काउंसलिंग करते हुए।

आर यू ओके से करें बातचीत की शुरुआत, मन की बात कहने व जानने से दिमाग का बोझ होता है कम

आपका किसी के साथ बिताया सिर्फ एक मिनट उसकी मनोस्थिति पर हावी सुसाइड के विचार को रोक सकता है। बस जरूरी है सिर्फ उससे आर यू ओके से बातचीत की शुरुआत करने की। तब आप बातों-बातों में उसके मन की बात जानकर समस्या के समाधान में मदद करके सुसाइड की राह से भटकाकर जीवन बचा सकते हैं। मनोचिकित्सकों के अनुसार जब समस्याओं से घिरा व्यक्ति खुद को अकेला महसूस करता है तब उसके जहन में सुसाइड के विचार आने लगते हैं।
इसलिए किसी को समस्याओं के भंवर में अकेला छोड़ने की बजाय उसके साथ खड़े होकर हौसला दें। यही वजह है कि इस बार 10 सितंबर को मनाए विश्व सुसाइड प्रीवेंशन डे की थीम को वॉकिंग टुगेदर टू प्रिवेंट सुसाइड एंड टेक ए मिनट रखा है। विश्व में हर 40 सेकेंड में 1 व्यक्ति सुसाइड करता है। यह कदम किसी समस्या का समाधान नहीं है।
सिविल अस्पताल के मनोरोग विभाग द्वारा विश्व सुसाइड प्रीवेंशन डे पर विशेष शिविर लगाया। इसमें 100 के करीब लोग पहुंचे। इनमें से 2 मामले ऐसे भी थे, जोकि अपनी भिन्न समस्याओं के चलते सुसाइड की सोच रहे थे। काउंसलिंग के जरिए उनके सुसाइड के विचार को परिवर्तित करके नई दिशा दिखाई है।

क्या है आर यू ओक व थीम का मतलब

आर यू ओके: अंग्रेजी में शॉर्ट फार्म में शब्द लिखने पर यह पढ़ा जाएगा रोक। रोक यानी रोकना लेकिन आरयूओके का मतलब आप ठीक हैं। दोनों का एक ही मतलब है कि किसी से बातचीत करके सुसाइड करने से रोकना।
वॉकिंग टुगेदर टू प्रिवेंट सुसाइड: कोई खुद को अकेला महसूस कर रहा है। बार-बार मरने की बात कह रहा है या एकांत में ज्यादा रहता है। खुशियों में भी उदास है और घर या कार्य स्थल पर भागीदारी नहीं है तो ऐसा व्यवहार सचेत करता है। उनका साथ दें और अपनी बातों में शामिल करें। जितना समय उनके साथ बिताएंगे उनके मस्तिष्क में सुसाइड का विचार नहीं आएगा। सोच बदलेगी तो जीवन को नये अंदाज में जी सकेंगे।
टेक ए मिनट: एक मिनट बातचीत को शुरू करने, एक मिनट मन की बात जानने, एक मिनट मन की बात बताने, एक मिनट समस्या का समाधान करने या फिर सुझाव देने, एक मिनट सुसाइड के विचार को परिवर्तित करने। यह एक मिनट जरूरी नहीं कि अपनों के साथ बल्कि जाने-अनजाने किसी पार्क, कार्य स्थल, पड़ोस फिर सबसे अलग एकांत में बैठे लोगों से बातचीत कर सकते हैं।

काउंसिलिंग से इनके हुए विचार परिवर्तित

एक व्यक्ति को 60-65 लाख रुपये का आर्थिक नुकसान हुआ था। तीन साल से भरपाई नहीं कर पाया। उसके जहन में सुसाइड का ख्याल आने लगा। किसी ने उससे बात कर मन की बात जानी। सिविल अस्पताल ले आया। मनोरोग विशेषज्ञों ने काउंसिलिंग की तो सुसाइड का विचार नहीं है।

लॉकडाउन में पति संग तकरार बढ़ गई। मामला तलाक तब पहुंच गया लेकिन उनके बीच घरेलू हिंसा जारी है। काउंसिलिंग के लिए दंपति मनोरोग विशेषज्ञ के पास पहुंचे। महिला ने कहा मैं तो सुसाइड करूंगी। काउंसलर ले समझाया तो उनके विचार परिवर्तित हुए।

क्या कहते हैं मनोरोग विशेषज्ञ

मनाेरोग ओपीडी में प्रत्येक माह में 4 से 5 लोग ऐसे आते हैं जोकि सुसाइड की बात करते हैं। वहीं 50 से 60 केस डिप्रेशन संबंधित होते हैं जिनमें सुसाइड के विचार आ सकते हैं। इसके मुख्य कारण गरीब, नशा, आर्थिक नुकसान, बेरोजगारी, लंबी बीमारी, घरेलू हिंसा इत्यादि हैं। ऐसे मनोरोगियों का दवा के साथ काउंसिलिंग से इलाज करते हैं। काफी मामलों में सुसाइड प्रीवेंशन संभव है जिसमें हमारे अलावा परिवार व समाज की भूमिका अहम होती है। सर्पोटिंग या सहयोग कई समस्याओं का समाधान है उनमें से एक है सुसाइड। मन का हाल जानना व बताना जरूरी है। इससे काफी राहत मिलती है। आशावादी बनें।- डॉ. पूनम दहिया, मनोरोग विशेषज्ञ।

Tuesday, September 1, 2020

September 01, 2020

मांग:सर्व हरियाणा स्कूल संघ ने निजी स्कूलों की मांगें दोहराईं

मांग:सर्व हरियाणा स्कूल संघ ने निजी स्कूलों की मांगें दोहराईं

हिसार : सर्व हरियाणा प्राइवेट स्कूल संघ की मीटिंग चंदन हाई स्कूल चंदन नगर में हुई। बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र सेठी व जिला अध्यक्ष सत्यवीर गढ़वाल ने की। बैठक के दौरान प्राइवेट स्कूलों से जुड़ी विभिन्न समस्याओं व मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया। बैठक के बाद संघ का प्रतिनिधिमंडल भाजपा के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष कैप्टन भूपेंद्र से मिला और प्राइवेट स्कूलों की समस्याओं से अवगत कराया।
प्रतिनिधिमंडल ने वर्ष 2003 से पूर्व स्थापित अस्थायी मान्यता प्राप्त विद्यालयों को भूमि की शर्त के बिना एकमुश्त मान्यता प्रदान करने के साथ साथ मान्यता संबंधी सरलीकृत नियम पूरे करने के लिए दस वर्ष का समय प्रदान करने की मांग उठाई।
साथ ही गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयों को मान्यता देने के लिए भूमि की शर्त को समाप्त करके आरटीई के तहत एक कमरा एक कक्षा के नियमानुसार मान्यता प्रदान करने, मान्यता संबधी नियमों का सरलीकरण किए जाने के बाद भविष्य में अपग्रेडेशन के लिए आवेदन करने वाले विद्यालयों को सरलीकृत नियमों के अन्तर्गत मान्यता प्रदान करने, स्कूलों की एग्जिस्टिंग सूची जल्द जारी करवाने, स्कूलों के बिजली बिल व स्कूल बसों के टैक्स में राहत देने विभिन्न मांगों से अवगत कराया।
कैप्टन भूपेंद्र ने आश्वासन दिया कि प्राइवेट स्कूलों के लिए वे हर संभव प्रयास करेंगे। प्रदेशाध्यक्ष नरेंद्र सेठी, जिलाध्यक्ष सत्यवीर गढ़वाल, संरक्षक ईश्वर, महासचिव अजीत यादव, मनोज पूनिया, सुभाष भानखड़, राजेश सहरावत, प्रांतीय सलाहकार अमीलाल मालवाल, संजय बूरा मौजूद रहे।

Sunday, August 30, 2020

August 30, 2020

शराब तस्करी:गैस टैंकर में शराब की जोधपुर होनी थी सप्लाई, हिसार में 781 पेटी पकड़ी, ड्राइवर को वॉट्सएप पर मिल रही थी डायरेक्शन

शराब तस्करी:गैस टैंकर में शराब की जोधपुर होनी थी सप्लाई, हिसार में 781 पेटी पकड़ी, ड्राइवर को वॉट्सएप पर मिल रही थी डायरेक्शन

हिसार में गैस टैंकर चालक काे पकड़कर अवैध शराब की पेटियां बरामद की गईं,ड्राइवर बोला- करनाल से टैंकर लिया, हिसार में दूसरे को देना था

781 पेटियों में 9372 बोतलें शराब की थीं, सभी पर हरियाणा का मार्क लगा है

हिसार : एंटी व्हीकल थेफ्ट यूनिट ने गैस के टैंकर से शराब की बड़ी खेप पकड़ी है। पुलिस ने शहर के भानू चौक पर टैंकर चालक राजस्थान के बाड़मेर वासी किशनाराम को गिरफ्तार किया है। गैस टैंकर से अंग्रेजी शराब की 781 पेटियां बरामद हुईं, जिनमें 9372 बोतलें शराब की थीं। सभी पेटियों और बोतलों पर हरियाणा मार्का लगा है, जो पानीपत के समालखा और करनाल में जुंडला से भरकर सप्लाई के लिए जोधपुर में सप्लाई होनी थी। टैंकर की नंबर प्लेट पर नागालैंड का नंबर है, लेकिन आगे व पीछे के नंबर से छेड़छाड़ की गई है।
आरोपी चालक के खिलाफ एक्साइज एक्ट और धोखाधड़ी के तहत केस दर्ज कर लिया है। चालक को रविवार को कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा। बता दें कि समालखा में शराब घोटाला उजागर हो चुका है। सील गोदाम से शराब की पेटियां चोरी हुईं थीं, जिसमें पूर्व विधायक जजपा नेता सतविंद्र राणा सहित अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी हुई थी। ऐसे में बरामद शराब के उक्त चोरी प्रकरण से कोई संबंध तो नहीं, इसकी जांच की जा रही है।

चालक को होटल पर दिया था टैंकर

यूनिट इंचार्ज नर सिंह ने बताया कि ड्राइवर किशना राम से अहम जानकारियां हासिल हुई हैं। आरोपी ने बताया कि पानीपत और करनाल के बीच हाेटल पर उसे गैस टैंकर का स्टेयरिंग संभलवाया गया था। उसे बताया था कि तुमसे वॉट्सएप के जरिए संपर्क रहेगा। डायरेक्शन मिलती रहेगी, जिसके अनुसार टैंकर लेकर आगे बढ़ते रहना है। हिसार पहुंचने पर टैंकर को किसी होटल पर खड़ा कर दूसरे ड्राइवर को गाड़ी सौंपनी थी। जो टैंकर को जोधपुर पहुंचाने के लिए लेकर जाता।

चेन सिस्टम से सप्लाई होती है शराब

शराब माफिया एक्साइज टैक्स बचाने और मुनाफा कमाने के लिए चालबाजी करते हैं। ऐसा एक मामला चौधरीवास गांव में सामने आया था। पुलिस ने ट्रक रुकवाकर उसके चालक सोमबीर को पकड़कर 1350 अवैध शराब की पेटियों को जब्त किया था। आरोपी ने बताया था कि रायपुर से झुंपा बॉर्डर तक ट्रक पहुंचाने की जिम्मेदारी थी। इसके बाद दूसरा ड्राइवर उसे लेकर जाता। चेन सिस्टम से अवैध शराब की पेटियों को अरूणाचल प्रदेश पहुंचाना था। इस काम के लिए उसे महज 5 हजार रुपए मिलने थे।

करीब 3-4 साल पहले इसी तरह सीआईए टीम ने सिरसा रोड से शराब की पेटियों से लोड ट्रक जब्त किया था। इसे भी चेन सिस्टम की तर्ज पर चालक बदल-बदलकर मंजिल तक पहुंचाना था, लेकिन उससे पहले ही माल जब्त हाे गया।

Thursday, August 27, 2020

August 27, 2020

बंधी उम्मीद:धाेबीघाट की 1650 गज जमीन रजक समाज काे देने की तैयारी

कलेक्टर रेट के आधार पर कीमत तय करेगी कमेटी, रजक समाज मांग रहा मामूली रेट पर जमीन

धाेबीघाट की जमीन काे लेकर सालाें से संघर्ष कर रहे रजक समाज के लिए खुशी की बात है। सरकार ने रजक समाज की मांग पर 1650 वर्ग गज जमीन देने की तैयारी शुरू कर दी है। इससे समाज के लोगों में जमीन मिलने की एक बार फिर से उम्मीद जगी है। इसकाे लेकर जल्द ही कमेटी कलेक्टर रेट के आधार पर इसकी कीमत निर्धारित करेगी। नगर निगम ने इसकाे लेकर यूएलबी के महानिदेशक काे लेटर लिखकर अवगत कराया है कि निदेशालय के आदेश पर ही कमेटी इस जमीन के कलेक्टर रेट के आधार पर कीमत तय करेगी।

इधर निगम की तरफ से मंडल आयुक्त काे भी लेटर लिखा है कि उनकी अध्यक्षता में बनी कमेटी कलेक्टर रेट निर्धारित करेगी। इस कमेटी में शामिल सदस्याें का भी नगर निगम ने हवाला दिया है। हालांकि इस मामले में सबसे बड़ी बात है कि रजक समाज कलेक्टर रेट पर भी जमीन लेने के लिए तैयार नहीं है। समाज के लोग इस मामले काे लेकर पिछले सप्ताह ही डिप्टी सीएम दुष्यंत चाैटाला से मिले थे। उन्हाेंने उनके सामने इस मामले काे रखा था। उन्हाेंने उनके सामने कहा है कि इस जमीन काे कम से कम रेट पर दिलवाए। क्याेंकि अन्य समाज के लाेगाें काे भी धर्मशालाओं व संस्थाओं के लिए कम से कम रेट पर जमीन दी जाती रही है।

वर्षों से यहां काम रहा है रजक समाज

धाेबीघाट के नाम से पहचानी जाने वाली इस जगह पर करीब 150 सालाें से रजक समाज काम कर रहा है। 2 एकड़ 1 कनाल कुछ मरले यानी 12 हजार 925 वर्ग गज यह सरकारी जमीन है जिस पर नगर निगम का मालिकाना हक है। रजक समाज के लाेग यहां अपना काम करते थे। वर्ष 2013 से रजक समाज इस जमीन काे लेने की मांग कर रहा है। क्याेंकि निगम ने जब इस जमीन पर प्राेजेक्ट बनाने की की प्लानिंग की ताे रजक समाज ने जमीन पर कुछ हिस्सा समाज हित में देने की मांग की थी।

Sunday, August 23, 2020

August 23, 2020

लापरवाही:जिस ब्लीचिंग से धोई जाती हैं बसें उसी से धुलवा रहे यात्रियों के हाथ

लापरवाही:जिस ब्लीचिंग से धोई जाती हैं बसें उसी से धुलवा रहे यात्रियों के हाथ

सार्वजनिक स्थलों पर ज्यादा सावधानी जरूरी, मगर बस स्टैंड की स्थिति उलट दिखी, भीड़ बढ़ी तो सतर्कता के नाम पर हो रही औपचारिकता

हिसार : काेविड 19 काे लेकर एक तरफ जहां सरकार संक्रमण काे रोकने के लिए लगातार प्रयास में जुटी है वहीं दूसरी ओर राेडवेज विभाग काेराेना काे बुलावा देता नजर आ रहा है। बस स्टैंड पर यात्रियाें के हाथ सेनिटाइज करने काे लेकर लापरवाही बरती जा रही है। राेडवेज कर्मचारी यात्रियाें के हाथ ब्लीचिंग युक्त पानी से धुलवा रहे हैं। जाेकि यात्रियाें के शरीर के लिए हानिकारक साबित हाे सकता है और वायरस रोधी हो भी या नहीं, कुछ कहा नहीं जा सकता।

जायजा लिया गया ताे सामने आया खेल

स्थान - दाे नंबर गेट-समय 11 बजकर 40 मिनट : यहां खड़े राेडवेज कर्मचारी से भास्कर संवाददाता ने हाथ सेनिटाइज करने के लिए कहा गया। हाथ सेनिटाइज करने के बाद शक हाेने पर कर्मचारी से कहा कि ये ताे पानी है ताे कर्मचारी ने भी हंस कर जबाब दे दिया कि हां जी पानी ही है। इसके बाद मामला जब एसएस ऑफिस में पहुंचा ताे एसएस द्वारा कर्मचारी काे सेनिटाइज की बाेतल अलमारी से निकाल कर दी गई।
मुझे सूचना नहीं,लापरवाही बिल्कुल नहीं चलेगी
सेनिटाइज के लिए क्या प्रयाेग किया जा रहा है मुझे सूचना नहीं है। हमने इसके लिए अलग कमेटी बनाई है। मामले का पता करके लापरवाही करने वाले के खिलाफ सख्त कदत उठाया जाएगा। राहुल मित्तल, जीएम हरियाणा राेडवेज हिसार

स्टाेर में रखा है ड्राम, वहीं से सभी कर्मचारी भरते हैं

सेनिटाइजर भरा ड्रम स्टाेर में रखा है। वहीं से सभी कर्मचारी बाेतलाें में भरकर लाते हैं। हमें नहीं पता की उसमेंं सेनिटाइजर है या पानी। सूरजमल, एसएस हरियाणा राेडवेज, हिसार
डिमांड की है साेमवार काे आएगा सेनिटाइजर
डिपाे पर सेनिटाइजर खत्म हाे गया है। ब्लीचिंग पाउडर से ही बसें सेनिटाइज करते हैं और उसी से यात्रियाें के हाथ साफ करवाए जा रहे हैं। सेनिटाइज कुछ दिन पहले ही खत्म हुआ है। राजबीर, नाजर

Saturday, August 22, 2020

August 22, 2020

अपराध:बिजनेस के बहाने बुला 40 हजार छीने, फिर रेप केस की धमकी दे मांगे 5 लाख रुपए

अपराध:बिजनेस के बहाने बुला 40 हजार छीने, फिर रेप केस की धमकी दे मांगे 5 लाख रुपए, हिसार में 2 युवतियों समेत तीन के खिलाफ मामला दर्ज

हिसार : मॉडल टाउन में रहने वाले अनिल कुमार ने 2 युवतियों व एक युवक पर बिजनेस के बहाने होटल में बुलाकर मोबाइल और 40 हजार रुपये छीनने और फिर रेप केस में फंसाने की धमकी देकर 5 लाख रुपये मांगने का आरोप लगाया है। इस संबंध में अर्बन एस्टेट थाना पुलिस को शिकायत देकर तीनों के खिलाफ केस दर्ज करवाया है।
पुलिस को अनिल कुमार ने बताया कि पेशे से कबाड़ का काम करता हूं। मेरी बरवाला की एक युवती से पुरानी जान पहचान थी। उसने 15 अगस्त को मुझसे संपर्क साधा था। बोली कि मार्केट में मिलकर पैसा लगाकर कोई काम करते हैं। बिजनेस की बात करने के लिए 17 अगस्त को होटल मून में बुलाया था। वहां पर दादरी की रहने वाली युवती मौजूद थी। मैंने उससे अपनी महिला परिचित के बारे में पूछा था। बोली कि वह अभी आएगी। आरोप है कि उसने मेरा मोबाइल व पर्स छीन लिया था। उसमें 40 हजार रुपये थे। इसके बाद उसने मुझे वहां से धमकाकर भगा दिया था।
इसके बाद मेरे घर पर फोन करने लगे। मेरे फोन को लेकर कहा कि यह सड़क पर मिला है। इसे लेने आ जाओ। ऐसे में मेरी पत्नी व परिवार वालों को फोन देने के बहाने इधर-उधर घुमाया। काफी देर बाद डाटा डिलीट करके मेरा फोन पकड़ा दिया था। आरोप है कि युवक सौरभ व दाे युवतियां मेरे घर आए थे। बोले कि आपने लड़की के साथ रेप किया है। पांच लाख रुपये देकर मामला रफा-दफा कर लो। इसके बाद बोले कि ऐसा नहीं किया तो रेप केस में फंसा देंगे।
हमारे पास रिकॉर्डिंग भी है। आरोप है कि लगातार फाेन करके रुपये मांग रहे हैं। नहीं देने पर झूठे केस में फंसाकर बदनाम करने की कह रहे हैं। अनिल कुमार ने रुपये देने की बजाय पुलिस को शिकायत देकर तीनों के खिलाफ केस दर्ज करवाया है। इनमें से 2 दादरी व एक युवती बरवाला की रहने वाली है। अर्बन एस्टेट थाना एसएचओ प्रह्लाद राय ने बताया कि युवक-युवतियों की धरपकड़ के प्रयास जारी हैं। इनकी गिरफ्तारी के बाद पता चलेगा कि कितने रुपये वसूले हैं और कितने लोगों को शिकार बना चुके हैं।

Thursday, August 20, 2020

August 20, 2020

मुंहबोली बहन को लेकर युवक फरार, रिश्तों को कर दिया शर्मसार

मुंहबोली बहन को लेकर युवक फरार, रिश्तों को कर दिया शर्मसार

हिसार : हिसार में रिश्तों को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक युवक अपनी मुंहबोली बहन को लेकर फरार हो गया है। इसकी जानकारी लगते ही घर में खलबली मच गई। जिसकी शिकायत किशोरी की मां ने अग्रोहा थाने में दर्ज करवाई है।

पुलिस को दी शिकायत में पीडि़ता ने बताया कि, उसकी लड़की जिसकी उम्र करीब 17 साल है, मानसिक रूप से परेशान रहती है। उसका मुंहबोला भतीजा, जिसका उसके घर कई सालों से आना जाना था। वह उसकी लड़की को भी अपनी मुंहबोली बहन मानता था। पिछले दिनों वह उसके घर आया और रात को उसके पास ही रुका। सुबह युवक ने उसकी बेटी को अपने साथ अपने गांव में अपने घर ले जाने के लिए उससे मिन्नत की, जिसे उसने मान लिया।

कुछ दिनों बाद उसके भतीजे की मां का उसके पास फोन आया कि वह उसकी बेटी को पत्नी बनाकर रखता है और वह उससे पत्नी की तरह व्यवहार करता है। जब उसे इस बात का पता चला तो उसने फोन कर युवक से अपनी बेटी को उसके घर पहुंचाने के लिए कहा। लेकिन वह अपने घर से उसकी लड़की को एक अन्य युवक के साथ लेकर कहीं फरार हो गया। जिसकी कई जगह तलाश करने पर भी वह नहीं मिला। पुलिस ने शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
August 20, 2020

हिसार में शहिद जवान सतपाल को 4 साल की बेटी ने दी मुखाग्नि

हिसार में शहिद जवान सतपाल को 4 साल की बेटी ने दी मुखाग्नि

हिसार:- लद्दाख में 15 अगस्त को सड़क हादसे का शिकार हुए भारतीय सेना के जवान सतपाल भाकर का अंतिम संस्कार अग्रोहा में राजकीय सम्मान के साथ किया गया। भारत माता की जय व शहीद सतपाल अमर रहे के नारों के साथ अंतिम संस्कार किया गया। साढ़े चार वर्षीय बड़ी बेटी साक्षी ने पिता को मुखाग्नि दी। इस दौरान जवान की छोटी बेटी नमन भी मौजूद थी !साल 1988 में गांव भोडा होशनाक में जन्मे और भारतीय सेना में लद्दाख क्षेत्र में तैनात सतपाल भाकर 7 महीने पहले छुट्टियों में घर आए थे। 15 अगस्त को लद्दाख में हुई एक सड़क दुर्घटना में उनकी मौत हो गई थी। बुधवार को उनके पार्थिव शरीर को सेना द्वारा हिसार लाया गया। सिरसा रोड पर अग्रोहा से पहले टोल-प्लाजा से युवाओं का समूह काफिले व शहीद सतपाल अमर रहे के नारों के साथ उनके पार्थिक शरीर को अग्रोहा तक लाया। सतपाल के पार्थिव शरीर को पहले उनके घर ले जाया गया। इसके उपरांत अग्रोहा स्थित श्मशान घाट लाया गया।

Wednesday, August 12, 2020

August 12, 2020

खानापूर्ति:वर्ष 2019 में याशी ने दी थी रिपाेर्ट, 1800 हो रहे निर्माण, सालभर में 200 से कम नक्शे हुए थे पास, इसके बाद भी मामला गाेलमाल

खानापूर्ति:वर्ष 2019 में याशी ने दी थी रिपाेर्ट, 1800 हो रहे निर्माण, सालभर में 200 से कम नक्शे हुए थे पास, इसके बाद भी मामला गाेलमाल

बिल्डिंग सील करते हुए नगर निगम की टीम, जिम्मेदारों की कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवाल, बिना नक्शे निर्माण करने वाले बिल्डिंग मालिकों पर कार्रवाई क्यों नहीं

हिसार : शहर में अवैध निर्माण पर कार्रवाई काे लेकर निगम की तरफ से खानापूर्ति की जा रही है। पिछले साल प्राॅपर्टी टैक्स का सर्वे कर रही कंपनी ने निगम अधिकारियाें काे रिपाेर्ट दी थी कि शहर में करीब 1800 बिल्डिंग निर्माणाधीन हैं। ऐसे में इन बिल्डिंग का सर्वे नहीं हाे पाया।
इस मामले के खुलासे के बाद बिल्डिंग ब्रांच के अधिकारियाें की कार्रवाई पर सवाल खड़े हाे गए। ऐसे में आम जनता के बीच अधिकारी अपनी छवि बनाने के चक्कर में फिर खानापूर्ति वाली कार्रवाई करते रहे। अधिकारियाें ने उसी दाैरान बिल्डिंग ब्रांच से रिपाेर्ट मांगी कि अभी तक कितने के नक्शे पास हुए। इसके साथ ही शहर में जिस लाेकेशन पर बिल्डिंग बन रही थी उनकी भी रिपाेर्ट मांगी गई थी कि कहां-कहां निर्माण हाे रहे हैं। बिल्डिंग ब्रांच ने अधिकारियाें काे रिपाेर्ट दी थी कि पिछले एक साल में 200 से भी कम बिल्डिंग के नक्शे पास हुए।

बड़ा सवाल : आखिर क्यों दब गई फाइल

हैरानी की बात है कि मीडिया में मामला उजागर हाेने के बाद फिर यह फाइल दबा दी गई। जिन बिल्डिंग के बारे में निगम अधिकारियाें काे याशी कंपनी ने बताया था उनकाे चेक ही नहीं किया गया। ना ही उन्हें नाेटिस दिए गए कि बिना नक्शे कैसे निर्माण बनाए जा रहे हैं। इन बिल्डिंग का डिवेलपमेंट चार्ज नगर निगम यानी सरकार के खाते जाता जिसका अधिकारियाें ने लाॅस करवा दिया। बिना नक्शे निर्माण करने वाले बिल्डिंग मालिकाें पर भी कार्रवाई नहीं की।

20 में से 10 बिल्डिंग मिली बिना नक्शे की

नगर निगम डीएमसी ने हाल ही में शहर के अलग-अलग एरिया में जाकर 20 निर्माण बताए थे। उन्हाेंने बिल्डिंग ब्रांच से इन सभी बिल्डिंग्स का रिकाॅर्ड मांगा था कि ये वैध तरीके से बनाई जा रही है या अवैध तरीके से। रिपाेर्ट मांगे जाने पर ब्रांच के अधिकारियाें ने कहा कि इनमें से 10 बिल्डिंग मालिकाें के पास नक्शे ही नहीं है। इसके बाद उन्हें नाेटिस जारी किए गए।

इधर, निगम टीम ने नियमों के विरुद्ध निर्माण पर तीन भवन किए सील

नगर निगम के भवन शाखा के अधिकारियों ने मंगलवार को अवैध निर्माण को लेकर बड़ी कार्रवाई की। बीआई धर्मेंद्र यादव की अगुवाई में नगर निगम की टीम ने राजगुरु मार्केट, तेलियान पुल और भगत सिंह चौक के पास नियमाें के विरुद्ध चल रहे भवन निर्माण को सील कर दिया। वहीं कुंजलाल गार्डन में एक भवन को सील करने के लिए नगर निगम टीम पहुंची तो वहां पर बुजुर्ग दंपति काबिज थे। ऐसे में नगर निगम टीम ने उन्हें चेतावनी देकर भवन खाली करने के आदेश दिए। भवन निर्माण सील करने के लिए बीआई धर्मेंद्र यादव के साथ सुरेंद्र कुमार, राजेंद्र और अरविंद्र मौजूद थे।
यहां बता दें कि नगर निगम एरिया में धड़ल्ले से अवैध निर्माण का खेल चल रहा है। हाल ही में नगर निगम के डीएमसी डॉ. प्रदीप हुड्डा ने शहर में दौरा कर 20 ऐसी बिल्डिंग चिह्नित की थी जो धड़ल्ले से बनाई जा रही थी।
बिल्डिंग ब्रांच से जब रिपोर्ट मांगी तो यह खुलासा हुआ कि इनमें से 10 निर्माण ऐसे हैं, जिन्होंने वायलेशन किया हुआ था। कुछ के पास नक्शे भी नहीं थे। अधिकारी के एतराज के बाद बिल्डिंग ब्रांच में इन लोगों को नोटिस जारी किए हैं। हालांकि यह सब खानापूर्ति है शहर में सैकड़ों ऐसे निर्माण चल रहे हैं। जोकि नगर निगम की बिल्डिंग ब्रांच की शह पर ही चल रहे हैं। अधिकारी इन पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही।

Tuesday, August 11, 2020

August 11, 2020

पुलिस कस्‍टडी में दम तोड़ने वाले नाबालिग प्रेमिका को भगाने के आराेपी युवक का 55 घंटे बाद हुआ अंतिम संस्‍कार

पुलिस कस्‍टडी में दम तोड़ने वाले नाबालिग प्रेमिका को भगाने के आराेपी युवक का 55 घंटे बाद हुआ अंतिम संस्‍कार

हिसार के अगोहा थाने में खड़ी पुलिस की गाड़ी। पुलिस पर एक युवक की कस्टडी में मौत का मामला कई दिन से गहराया हुआ है।

गुरुवार को मय्यड़ गांव का युवक नाबालिग लड़की को उसके ननिहाल से भगाकर घर ले आया था

लड़की की गुमशुदगी की रिपोर्ट के बाद पुलिस ने कस्टी में ले लिया था, थाने की बजाय ले जाना पड़ा मेडिकल कॉलेज

हिसार : हिसार में प्रेमिका संग भागे और फिर पुलिस कस्‍टडी में जहर खाकर जान देने वाले गांव मय्यड़ निवासी युवक का मौत के 55 घंटे बाद अंतिम संस्‍कार किया गया। मंगलवार दोपहर बाद परिजन युवक के शव को अग्रोहा मेडिकल कॉलेज से ले गए और संस्‍कार किया गया। इस दौरान पुलिस भी मौजूद रही। बीते दो दिन से मृतक के परिजन मांगों को लेकर धरने पर डटे हुए थे, सोमवार रात तक भी परिजन नहीं माने थे, मगर फिर एसपी से बात होने के बाद परिजनों को जब पुख्‍ता आश्‍वासन मिला तो परिजन संस्‍कार करने के लिए मान गए।
मिली जानकारी के अनुसार मय्यड़ का 21 वर्षीय युवक गुरुवार को नाबालिग प्रेमिका को उसके ननिहाल से भगाकर अपने घर ले आया था। नाबालिगा की गुमशुदगी संबंधी शिकायत मिलने पर अग्रोहा पुलिस ने उन्हें मय्यड़ से बरामद कर लिया था। किशोरी को परिजनों को सौंपने के बाद युवक को हिरासत में लेकर पुलिस अग्रोहा थाने में लेकर आ रही थी। रास्ते में युवक की तबीयत बिगडऩा शुरू हो गई। पुलिस उसे मेडिकल कॉलेज में ले गई। वहां तीन के बाद रविवार को युवक ने दम तोड़ दिया। युवक के स्वजनों ने पुलिस व लड़की के परिवार के सदस्यों पर हिरासत में लेने के बाद युवक को जहरीला पदार्थ देकर मारने का आरोप लगाया था। अग्रोहा थाना प्रभारी गुरमीत सिंह ने बताया कि मृतक युवक के परिजनों की मांग के अनुसार आरोपी पुलिस कर्मियों और नाबालिग युवती के परिजनों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वहीं एससी-एसटी एक्‍ट की धारा भी लगाई गई है। इसके साथ प्रशासन की तरफ से मृतक के परिजनों को मुआवजा राशि देने का भी आश्‍वासन दिया है। ग्रामीणों व मृतक के स्वजनों ने प्रशासन को मंगलवार सुबह 9 बजे तक का समय दिया। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि तय समय तक उनकी मांगें नहीं मानी गई तो वह मंगलवार से डीसी कार्यालय के सामने धरना देंगे। देर शाम तक मामले को लेकर अफसरों की उच्चाधिकारियों से वार्ता हुई, लेकिन कोई परिणाम नहीं निकला। वहीं ग्रामीणों ने प्रशासन से दो-दो हाथ करने के लिए एक कमेटी का गठन किया है। इसके बाद देर रात परिजनों से प्रशासन के आला अधिकारियों ने बात की और उन्‍हें मना लिया।

Monday, August 10, 2020

August 10, 2020

हिसार में वारदात:थाईलैंड की टूरिस्ट से सामूहिक दुष्कर्म का एक आरोपी काबू, पीड़िता के बयान समझने को ली जा रही ट्रांसलेटर की मदद

हिसार में वारदात:थाईलैंड की टूरिस्ट से सामूहिक दुष्कर्म का एक आरोपी काबू, पीड़िता के बयान समझने को ली जा रही ट्रांसलेटर की मदद

41 साल की पीड़ित महिला दोस्तों के साथ मार्च में 4 सितंबर तक के टूरिस्ट वीजा पर इंडिया आई थी, 6 अगस्त को बाहर जाकर इंजॉय किया, नशे की हालत का फायदा उठाकर होटल के मैनेजर ने किया गलत काम

एक और कर्मचारी की दरिंदगी का विरोध करके शोर मचाकर होटल से भागी, पार्क में रोते देख दो अजनबियों ने की मदद

हिसार : हिसार में बीते दिनों थाईलैंड के टूरिस्ट महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पुलिस ने सोमवार को एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही पुलिस ने दिल्ली में एंबेसी से संपर्क करके बताया है कि पीड़िता की भाषा समझ नहीं आ रही है। इस वजह से उसके मजिस्ट्रेट के समक्ष अभी तक बयान नहीं हो पाए हैं। इसके बयान दर्ज करवाने के लिए ट्रांसलेटर मुहैया करवाया जाए। पुलिस की मानें तो एंबेसी की तरफ से ट्रांसलेटर भिजवाया जा रहा है। सोमवार को उसके पहुंचने पर बयान हो सकते हैं।
घटना बीती 6 अगस्त की रात की है। पुलिस के मुताबिक प्रारंभिक जांच में सामने आया था कि मार्च में थाईलैंड से 41 साल की एक महिला दोस्तों के साथ टूरिस्ट वीजा पर इंडिया आई थी। उसका वीजा 4 सितंबर 2020 को खत्म होना है। इसी बीच 6 अगस्त को होटल रिजेंसी में आई थी। दोस्तों के साथ बाहर जाकर ड्रिंक वगैरह किया। इसके बाद देर रात ढाई बजे होटल लौटी तो मैनेजर अमित, मैनेजर गुलशन व एक अन्य ने कमरे के अंदर तक पहुंचाया था। तब मैनेजर गुलशन को छोड़कर बाकी चले गए और उसने मौके का फायदा उठाकर दुष्कर्म किया। तब एक और कर्मचारी आया था, जिसने दुष्कर्म का प्रयास किया।
महिला के मुताबिक उसने विरोध कर होटल से भागने का प्रयास किया, लेकिन गेट बंद था। काफी देर तक शोर मचाने पर गेट खोला गया तो वह एक पार्क के पास जा बैठी। वहां आए दो अजनबियों ने रोने कारण पूछा। तब उनकी मदद से पीड़िता ने पुलिस और अपने दोस्तों को फोन किया।
इस मामले में मिल गेट थाने की पुलिस ने जबरन कमरे में घुसकर सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज करके आरोपी मैनेजर गुलशन को गिरफ्तार कर लिया है। जांच अधिकारी मनमोहन सिंह का कहना है कि फिलहाल महिला की भाषा समझ नहीं आने के चलते मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान नहीं हो पाए हैं। इसके लिए एंबेसी की तरफ से ट्रांसलेटर भिजवाया जा रहा है। सोमवार को उसके पहुंचने पर पीड़िता के बयान हो सकते हैं।

Thursday, July 16, 2020

July 16, 2020

सोनाली फौगाट थप्‍पड़ कांड : आज अदालत में पुलिस करेगी रिपोर्ट पेश

सोनाली फौगाट थप्‍पड़ कांड : आज अदालत में पुलिस करेगी रिपोर्ट पेश

हिसार। भाजपा नेत्री सोनाली फौगाट और मार्केट कमेटी सचिव सुल्तान सिंह के बीच विवाद में बृहस्पतिवार को सोनाली के मामले में पुलिस अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। अदालत ने पिछले दिनों दो प्वाइंट पर रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए थे। पुलिस इसमें सीडी सही है या नहीं,उससे छेड़छाड़ तो नहीं की गई और सीडी के माध्यम से गवाहों को डराया तो इस पर रिपोर्ट देगी। उसके बाद सोनाली को दी गई बेल पर अदालत फैसला ले सकती है।
सुल्तान सिंह के वकील ने सोनाली पर गवाहों को प्रभावित करने के आरोप लगाते हुए उनकी बेल रद करने की याचिका दायर की थी। अदालत में उस मामले में दोनों वकीलों के बीच बहस हुई थी और उसके बाद पुलिस को दो प्वाइंट पर रिपोर्ट देने के आदेश हुए थे। गौरतलब है कि भाजपा नेत्री सोनाली ने मार्केट कमेटी सचिव सुल्तान को बालसमंद मंडी में थप्पड़-चप्पल से पिटाई कर दी थी। उसके बाद सुल्तान सिंह ने सोनाली पर ड्यूटी पर बाधा डालने और मारपीट करने का मामला दर्ज करवाया है। इस मामले में पुलिस ने सोनाली को अदालत में पेश किया जहां से सोनाली को बेल मिल गई थी। सोनाली ने 21 जून को सोशल मीडिया पर एक वीडियो डाली थी। उस मामले में सुल्तान सिंह के वकील ने शिकायत देकर कहा था कि सोनाली सोशल मीडिया पर गवाहों को प्रभावित करने के साथ डरा रही है। वकील ने इसके बाद सोनाली द्वारा मांगी गई माफी की भी सीडी जमा करवाई थी। अदालत से उस समय सुल्तान सिंह के वकील ने बेल को रद करने की मांग की थी। 
बता दें कि सोनाली और मार्केट कमेटी सचिवत सुल्तान सिंह के बीच बालसमंद मंडी में विवाद हो गया था। विवाद होने पर सोनाली ने सुल्तान सिंह पर छेड़छाड़ के आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया है। सोनाली ने बालसमंद मंडी में सुल्तान सिंह को थप्पड़ और चप्पल से पीटा भी था। उसका वीडियो वायरल होने के बाद सुल्तान सिंह ने सोनाली पर ड्यूटी में बाधा डालने के साथ पीटने के आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया था। सुल्तान सिंह के वकील ने पिछले दिनों एसीजेएम की अदालत में एप्लीकेशन दी थी। उसके साथ एक सीडी देते हुए सुल्तान सिंह के वकील महेंद्र सिंह नैन ने कहा था कि सोनाली ने सोशल मीडिया पर ऑनलाइन होते हुए गवाहों को डराने का प्रयास करने की बात कही थी।
गौरतलब है कि सोनाली और सुल्‍तान के बीच यह विवाद बीते कई दिनों से प्रदेशभर में छाया हुआ है। बड़े से बड़े मीडिया प्‍लेटफार्म पर भी इस मामले का चर्चा है। टिक टॉक स्‍टार सोनाली फौगाट विधानसभा चुनावों में जितनी सुर्खियों में आदमपुर से बीजेपी की टिकट मिलने पर आई थी। उससे कहीं ज्‍यादा इस विवाद के कारण सुर्खियों में आ गई। आदमपुर सीट पर कांग्रेस विधायक कुलदीप बिश्‍नोई और कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने भी इस प्रकरण में सोनाली फौगाट पर जमकर निशाना साधा। मामला महिला आयोग तक पहुंचा और महिला आयोग ने सोनाली को सही ठहराया। विरोध होने पर सुल्‍तान सिंह को भी पक्ष रखने के लिए बुलाया। इसके बाद सोनाली फौगाट के विरोध में सुल्‍तान सिंह बीनैन खाप के शरण में भी गए तो सोनाली फौगाट ने भी फौगाट खाप से संपर्क साधा था। सोनाली फौगाट इस बीच कई बार सोशल मीडिया पर लाइव आईं और माफी नहीं मांगने की बात कही। लोगो को बढ़ते विरोध और आवेश में आकर कहे गए शब्‍दों को लेकर उन्‍होंने बीते एक सप्‍ताह पहले सोनाली ने ये जरूर कहा कि मुझे कानून हाथ में नहीं लेना चाहिए था। वहीं मैनें जो शब्‍द आवेश में आकर महिलाओं के लिए कहे हैं उनके लिए भी मैं माफी मांगती हूं। मगर इस मामले में मुझे सजा देने का काम कानून करेगा। मैं अभी भी कोर्ट की प्रकिया के तहत इस मामले का निपटारा चाहती हूं।

Friday, July 10, 2020

July 10, 2020

पशुओं की तरह अब मछलियाें का भी कराया जा रहा कृत्रिम गर्भाधान, 72 घंटे में देंगी जन्म

पशुओं की तरह अब मछलियाें का भी कराया जा रहा कृत्रिम गर्भाधान, 72 घंटे में देंगी जन्म

लंबी रिसर्च के बाद लखनऊ के वैज्ञानिकाें ने पद्धति और किट की तैयार, देशभर के किसानों काे भी मछलियाें की नस्ल सुधार के लिए कृत्रिम गर्भाधान के प्रति किया जा रहा जागरूक

हिसार :  पशुओं की तरह अब मछलियाें की नस्ल सुधार और किसानाें की आय दाेगुना करने के उद्देश्य से यूपी के राष्ट्रीय मत्स्य अनुवांशिक संसाधन ब्यूराे लखनऊ ने लंबी रिसर्च के बाद विशेष प्रकार किट और पद्धति तैयार की है। इसके माध्यम से मछलियों का भी कृत्रिम गर्भाधान कराया जा सकेगा।

राष्ट्रीय मत्स्य अनुवांशिक संसाधन ब्यूराे के निदेशक डाॅ. कुलदीप के लाल के नेतृत्व में वैज्ञानिकाें का दल हिसार के डाबड़ा गांव के फिश फार्म हाउस संचालक अजय वीर सिंह और अर्जुन सिंह के यहां पर पहुंचा। यहां पर हरियाणा बुलेटिन न्यूज़ ने राष्ट्रीय मत्स्य अनुवांशिक संसाधन ब्यूराे के निदेशक कुलदीप के लाल और प्रधान वैज्ञानिक डाॅ. सुलिप कुमार माझी से विशेष बातचीत की।

निदेशक कुलदीप के लाल ने बताया कि संस्थान द्वारा मछलियाें में हाेने वाली डिजीज काे लेकर कई रिसर्च चल रही है। हाल ही में मछलियाें के कृत्रिम गर्भाधान के लिए पद्धति तैयार की है। जिसके माध्यम से मछलियाें का भी कृत्रिम गर्भाधान कराया जा सकेगा। किट के माध्यम से कृत्रिम गर्भाधान कराने पर 72 घंटे के अंदर ही मछली बच्चे काे जन्म दे सकेंगी। मुख्य उद्देश्य मछलियाें की नस्ल में सुधार करना है। यानि अच्छी नस्ल की मेल मछली से फीमेल मछली काे गर्भाधान कराकर अच्छी नस्ल का बच्चा पैदा कराया जा सकेगा।

इससे जहां किसानों के उत्पादन में बढ़ाेतरी हाेगी। वहीं उनकी आमदनी भी बढ़ सकेगी। निदेशक ने बताया कि किसानाें काे कृत्रिम गर्भाधान के प्रति जागरूक करने के लिए हरियाणा के अलावा मध्य प्रदेश और बिहार में भी एक टीम जागरूक करने के लिए भेजी है। जल्द ही देश के सभी प्रदेशाें में जाकर मछली के अत्याधुनिक पालन के प्रति किसानाें काे जागरूक किया जाएगा।

*स्पर्म काे एक्टीवेट करने के लिए सिर्फ एक मिनट का हाेता है समय*

राष्ट्रीय मत्स्य अनुवांशिक संसाधन ब्यूराे के प्रधान वैज्ञानिक डाॅ. सुलिप कुमार माझी ने बताया कि जिस तरह से पशुओं में फीमेल काे गर्भवती कराने के लिए 16 से 18 घंटे का समय हाेता है, उस तरह मछलियाें में नहीं हाेता। फीमेल मछलियाें काे गर्भवती कराने के लिए स्पर्म एक्टीवेट करने काे सिर्फ एक मिनट का समय मिलता है। यदि एक मिनट में स्पर्म काे यूज नहीं किया जाता है ताे वह व्यर्थ हाे जाता है।

*कृत्रिम गर्भाधान के लिए यूं किया जाता है प्रयाेग*

मेल मछली का स्पर्म निकालकर उसकाे मिश्रण में मिलाकर -196 डिग्री तापमान के अंदर रखते हैं। इसके बाद स्पर्म काे -196 डिग्री से गर्म करके 40 डिग्री सेल्सियस तक लाया जाता है। इसके बाद फीमेल मछली के अंडे में मिक्स किया जाता है। इसके बाद फर्टिलाइजेंशन कर करीब 72 घंटे में बच्चे काे लिया जा सकता है।

कार्यक्रम में किसानों से मांगे सुझाव

राष्ट्रीय मत्स्य अनुवांशिक संसाधन ब्यूराे और स्थानीय मत्स्य पालन विभाग ने डाबड़ा गांव में अजय वीर के फिश फार्म हाउस पर प्रजनकाें के अनुवांशिक उन्नयन के लिए मत्स्य मिल्ट हिमपरिरक्षण कार्यक्रम आयाेजित किया गया। इसमें राष्ट्रीय मत्स्य अनुवांशिक संसाधन ब्यूराे के निदेशक कुलदीप के लाल प्रधान वैज्ञानिक डाॅ. सुलिप कुमार माझी ने किसानों काे मछलियाें के कृत्रिम गर्भाधान के बारे में जानकारी दी।
यही नहीं किट के माध्यम से प्रेक्टिकल रूप से भी कृत्रिम गर्भाधान कराया दिखाया। इसके अलावा फिश फार्म के संचालक अजय वीर सिंह और उनके बेटे अर्जुन सिंह ने भी किसानों काे मछली पालन कर आमदनी बढ़ाने के बारे में बताया।

एचएयू में फिशरीज काॅलेज के अधिकारियाें से भी मिले निदेशक

राष्ट्रीय मत्स्य अनुवांशिक संसाधन ब्यूराे के निदेशक कुलदीप के लाल एचएयू के फिशरीज काॅलेज की डीन डाॅ. रचना गुलाटी से भी मिले। एचएयू में जाकर फिशरीज के क्षेत्र में किए जा रहे कार्याें के बारे में भी जानकारी हासिल की।

*कई रिसर्च चल रही: डा. कुलदीप*

मुख्य उद्देश्य मछलियाें की नस्ल सुधार व किसानों की आय दाेगुना करना है। मछलियाें काे लेकर संस्थान में और भी कई रिसर्च चल रही हैं। जिन्हें जल्द ही सफलतापूर्वक पूरा कर लिया जाएगा।'' - डाॅ. कुलदीप के लाल, निदेशक, राष्ट्रीय मत्स्य अनुवांशिक संसाधन ब्यूराे।

Wednesday, July 8, 2020

July 08, 2020

12 वर्षों से लॉकर में बंद 7 लोगों की अस्थियों को मुक्ति का इंतजार, मृतकों के परिजन नहीं आए अस्थियां लेने

ऋषि नगर श्मशान घाट में रखी अस्थियां लेने कोई नहीं आया, अब सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी करेंगे विसर्जित

हिसार :  ऋषि नगर श्मशान घाट में पिछले 12 साल से 7 मृतकों की अस्थियां विसर्जन के इंतजार में रखी हैं। मगर मृतकों के परिजन अभी तक अस्थियों को लेने के लिए नहीं आए। अब श्मशान घाट और सामाजिक संगठनों के लोगों ने खुद ही अस्थियों को विसर्जित करने का निर्णय लिया है। यही नहीं विधि-विधान के साथ हरिद्वार ले जाकर अस्थियों का विसर्जन किया जाएगा।
दरअसल, किसी भी व्यक्ति की मौत के बाद श्मशान घाट में कुछ दिन तक मरने वाले लोगों की अस्थियों को रखा जाता है। इसके बाद परिजन श्मशान घाट में रखी अस्थियों को विसर्जित करने के लिए हरिद्वार जाते हैं। मगर हिसार के ऋषि नगर श्मशान घाट पर पिछले करीब 12 साल से अस्थियां अपनों के इंतजार में है। श्मशान घाट के मैनेजर अजय कुमार ने बताया कि अस्थियों को लेने के लिए कोई भी नहीं आ रहा है। हालांकि अस्थियों के बारे में कपड़ों के माध्यम से पहचान के लिए लोगों से भी अपील की गई थी।
अब विश्व जागृति मिशन के प्रधान विजय कुमार और जन मानस सेवा समिति के प्रधान दीपक चौधरी, उपप्रधान राकेश सैनी, वरिष्ठ प्रधान छबीलदास आदि 12 साल से रखी अस्थियों को विसर्जन करने के लिए हरिद्वार जाएंगे।
प्रधान विजय कुमार ने बताया कि पहले भी वह अस्थियों का विसर्जन करने के लिए जाते रहे हैं। विसर्जन करने के लिए पंडित को भी साथ लेकर जाते हैं। विधि-विधान के साथ ही अस्थियों का विसर्जन कराया जाता है।

*रुपयों के अभाव में विसर्जन नहीं कर पाते कुछ परिवार : विजय*

विजय कुमार का कहना है कि कुछ परिवार रुपयों के अभाव में अस्थियों का विसर्जन नहीं कर पाते हैं, क्योंकि अस्थियों का विसर्जन हरिद्वार में करना होता है। इसलिए उनके संस्था के पदाधिकारी अपने खर्च पर अस्थियों का विसर्जन करते हैं।
कई साल से श्मशान घाट में बनाए लाॅकर्स में अस्थियों को रखा गया है। प्रयास है कि सामाजिक संगठनों के माध्यम से सभी अस्थियों का विसर्जन हो। अजय कुमार, मैनेजर, ऋषि नगर श्मशान घाट।

Monday, June 8, 2020

June 08, 2020

रामकुमार गौतम ने दुष्यंत पर फिर बोला हमला, जजपा का तो सौदा ए कुछ नहीं, दुष्यंत अकेला खा रहा मलाई

रामकुमार गौतम ने दुष्यंत पर फिर बोला हमला, 

जजपा का तो सौदा ए कुछ नहीं, दुष्यंत अकेला खा रहा मलाई

JJP-News-Haryana-Bulletin-News-080620
नारनौंद। आज प्रदेश में लूट का खेल नीचे से ऊपर तक आपसी मिलीभगत से चल रहा है। मुख्यमंत्री को बेईमान लोगों से दूर रहना चाहिए। भाजपा एक बड़ी पार्टी तो है और जेजेपी का तो सौदा ए कुछ नहीं है, जिस दिन मैंने जेजेपी पार्टी ज्वाइन कि वह मेरे लिए काला दिन था। यह बात विधायक रामकुमार गौतम (MLA Ramkumar Gautam) ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहे। उन्होंने कहा कि कोरोना से पूरे देश में नुकसान हुआ है और सबसे ज्यादा नुकसान तो लॉकडाउन में गरीब मजदूर को हुआ है। ये लोग भूखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं। 

गौतम ने आरोप लगाया कि नारनौंद की अनाज मंडी में आढ़ती काफी परेशान है, क्योंकि पिछले दिनों फूड सप्लाई विभाग ने मिलीभगत करके ट्रांसपोर्ट का टेंडर एक आदमी को नाम छोड़ दिया था और मैंने यह मामला मुख्यमंत्री से जिला उपायुक्त तक के संज्ञान में डाला था, लेकिन उसके बावजूद भी यह टेंडर एक तरफा मंजूर कर दिया गया। बेईमान लोग ऊपर से नीचे तक इस ट्रांसपोर्ट के धंधे में शामिल है। उन्होंने आरोप लगाया कि खाद्य आपूर्ति विभाग के एक अधिकारी ने नारनौंद व बास के आढ़तियों को लाखों रुपये का नुकसान पहुंचाने का काम किया है। सरकार इसकी भरपाई करें और यह भरपाई उन लोगों से करवाएं जोकि प्रदेश के नंबर वन चोर हैं। आढ़ती उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला से भी मिले थे, उन्होंने उनकी एक ही नहीं सुनी। आज तो हालात ऐसे हैं कि दूध की रखवाली बिल्ली कर रही है। वो भी इस खेल में बराबर के भागीदार हैं।

दुष्यंत मिलाई खा रहे हैं 

उन्होंने कहा कि सरकार ने वादा किया था कि किसानों की गेहूं की फसल की पेमेंट 72 घंटे में हो जाएगी लेकिन वह आज तक नहीं हुई है। यह सरकार की बड़ी गलती है। यह सारा ताकत का खेल है। दुष्यंत सभी विभागों की मलाई खाने का काम कर रहे हैं। एक मंत्री के पास दस विभाग हैं, बाकी सभी खाली बैठे हुए हैं। यह सभी विभाग खाने पीने के लिए ही लिए हुए हैं। मैं जेजेपी में गलती से आ गया था और जिंदगी में विधायक बनकर उससे भी बड़ी गलती कर दी।

शराब घोटाले की जांच पर उठाया सवाल 

विधायक गौतम ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री ईमानदार हैं, लेकिन शराब घोटाले की जांच एक ऐसे अधिकारी को सौंप दी, जोकि सही तरीके से न्याय नहीं कर सकता। अब इस घोटाले में कुछ भी तस्वीर साफ नहीं होगी। जो बड़े-बड़े मगरमच्छ इसमें शामिल थे वह सभी बाहर निकल जाएंगे। सरकार ने उन ठेकेदारों को नौकरी लगाने के लिए लाइसेंस भी हुए हैं, जोकि चोर हैं। सरकार जिन भी युवाओं को नौकरी लगाएं वह डीसी रेट पर ही लगाएं। ठेकेदारों के माध्यम से ना लगाया जाए।